Om Jai Jagdish Hare Lyrics – ॐ जय जगदीश हरे लिरिक्स

2167
Om Jai Jagdish Hare Lyrics

Om Jai Jagdish Hare Lyrics : ॐ जय जगदीश हरे आरती सबसे ज्यादा लोकप्रिय हे पं. श्रद्धाराम फिल्लौरी द्वारा सन् १८७० में लिखी गई थी। यह आरती मूलतः श्री हरि को समर्पित है फिर भी इस आरती को किसी भी पूजा, उत्सव पर गाया जाता हैं। माना जाता है कि इस आरती को गाने या सुनने से भक्तों को शांति, स्थिरता और आध्यात्मिक उत्थान मिलता है।

Om Jay Jagdish Hare Aarti lyrics is from album Aartian. This beautiful aarti sung by Anuradha Paudwal. Shree Hari Aarti music is composed by Arun Paudwal and lyrics is written by Shraddha Ram Phillauri in 1870. This Aarti is a form of prayer that expresses devotion and seeks blessings from Lord Vishnu, who is considered the preserver and protector of the universe in Hinduism.

Om Jai Jagdish Hare Aarti Details:

Singer:Anuradha Paudwal
Music:Arun Paudwal
Album:Aartian
Lyricist:Mahant Shiromani Omnath Sharma
Genre:Aarti
Label:T-Series

Om Jai Jagdish Hare Lyrics in Hindi | विष्णु भगवान की आरती – ॐ जय जगदीश हरे लिरिक्स

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ॥
कोरस : ॐ जय जगदीश हरे..॥

जो ध्यावे फल पावे,
दुःख बिनसे मन का,
कोरस : स्वामी दुःख बिनसे मन का ।
सुख सम्पति घर आवे,

कोरस : सुख सम्पति घर आवे,
कष्ट मिटे तन का ॥

कोरस : ॐ जय जगदीश हरे..॥

मात पिता तुम मेरे,
शरण गहूं किसकी,
कोरस : स्वामी शरण गहूं मैं किसकी ।
तुम बिन और न दूजा,
कोरस : तुम बिन और न दूजा,
आस करूं मैं जिसकी ॥
कोरस : ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम पूरण परमात्मा,
तुम अन्तर्यामी,
कोरस : स्वामी तुम अन्तर्यामी ।
पारब्रह्म परमेश्वर,
कोरस : पारब्रह्म परमेश्वर,
तुम सब के स्वामी ॥
कोरस : ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम करुणा के सागर,
तुम पालनकर्ता,
कोरस : स्वामी तुम पालनकर्ता ।
मैं मूरख फलकामी,
कोरस : मैं सेवक तुम स्वामी,
कृपा करो भर्ता॥
कोरस : ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम हो एक अगोचर,
सबके प्राणपति,
कोरस : स्वामी सबके प्राणपति ।
किस विधि मिलूं दयामय,
कोरस : किस विधि मिलूं दयामय,
तुमको मैं कुमति ॥
कोरस : ॐ जय जगदीश हरे..॥

दीन-बन्धु दुःख-हर्ता,
ठाकुर तुम मेरे,
कोरस : स्वामी रक्षक तुम मेरे ।
अपने हाथ उठाओ,
कोरस : अपने शरण लगाओ,
द्वार पड़ा तेरे ॥
कोरस : ॐ जय जगदीश हरे..॥

विषय-विकार मिटाओ,
पाप हरो देवा,
कोरस : स्वमी पाप(कष्ट) हरो देवा ।
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
कोरस : श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
सन्तन की सेवा ॥

ॐ जय जगदीश हरे,
कोरस : स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट,
कोरस : दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ॥

श्री हरि आरती : ॐ जय जगदीश हरे लिरिक्स – Om Jai Jagdish Hare Lyrics

Om Jai Jagadish Har e
Swami Jaya Jagadish Hare
Bhakta janon ke sankat
Bhakta janon ke sankat
Kshan me door kar
Chorus : Om Jai Jagadish Hare

Jo dhyave phal paave
Dhukh vinashe man ka
Chorus : Swami dhukh vinashe man ka
Sukha sampati Ghar aave
Chorus : Sukha sampati Ghar aave
Kashht mite tan ka
Chorus : Om Jai Jagadish Hare

Mata pita tum mere
Sharan padun mai kis ki
Chorus : Swami sharan padum mai kis ki
Tum bina aur na doojaa
Chorus : Tum bina aur na doojaa
Asha karun mai kis ki
Chorus : Om Jai Jagadish Hare

Tum pooran Paramatma
Tum Antaryaami
Chorus : Swami Tum Antaryaami
Para brahma Parameshwara
Chorus : Para brahma Parameshwara
Tum sab ke Swami
Chorus : Om Jai Jagadish Hare

Tum karuna ke saagar
Tum palan karta
Chorus : Swami Tum palan karta
Mai sevak tum swaami
Chorus : Mai sevak tum swaami
Kripa karo bhartaa
Chorus : Om Jai Jagadish Hare

Tum ho ek agochar
Sab ke prana pati
Chorus : Swami sab ke prana pati
Kis vidhi miloon dayamaya
Chorus : Kisi vidhi miloon dayamaya
Tum ko mai kumati

Chorus : Om Jai Jagadish Hare

Deena bandhu dukh hartaa
Tum rakshak mere
Chorus : Swami tum rakshak mere
Apane hast uthao
Chorus : Apane hast uthao
Dwar khada mai tere
Chorus : Om Jai Jagadish Hare

Vishaya vikar mithao
Paap haro deva
Chorus : Swami paap haro deva
Shraddha bhakti badhao
Chorus : Shraddha bhakti badhao
Santan ki seva
Chorus : Om Jai Jagadish Hare

Tan man dhan sab kuch hai tera
Chorus : Swami sab kuch hai tera
Tera tujh ko arpan
Chorus : Tera tujh ko arpan
Kya laage mera
Chorus : Om Jai Jagadish Hare

Om Jai Jagadish Hare
Chorus : Swami Jai Jagadish Hare
Bhakta janon ke sankat
Chorus : Bhakta janon ke sankat
Kshan me door kare
Chorus : Om Jai Jagadish Hare

ॐ जय जगदीश हरे आरती लिरिक्स Om Jai Jagdish Hare Aarti – Anuradha Paudwal

श्री हरि आरती : जय जगदीश हरे आरती का प्रतिदिन जप करने से शांति, समृद्धि और खुशी आती है। सत्यनारायण कथा या हर पूजा के अंत में इसका जाप करना चाहिए। यह आरती प्रार्थना का एक रूप है जो भक्ति व्यक्त करती है और भगवान विष्णु से आशीर्वाद मांगती है। “ओम जय जगदीश हरे” भगवान विष्णु के प्रति कृतज्ञता और श्रद्धा की एक भक्तिपूर्ण अभिव्यक्ति है।

Mangal Murti Maruti Nandanमंगल मूर्ति मारुति नंदन
Jai Jai Jai Hanuman Gosaiजय जय जय हनुमान गोसाई
Aarti Kije Hanuman Lala Kiआरती कीजै हनुमान लला की
Sankatmochan Hanuman Ashtakसंकट मोचन हनुमानाष्टक
Hanuman Chalisaहनुमान चालीसा
Ramayan Songकांधे पर दो वीर बिठाकर चले
Radhakrishna Hanuman Themeजय हनुमान ज्ञान गुण सागर

FAQs for Om Jai Jagdish Hare Aarti

  1. Who is the singer of Om Jai Jagdish Hare Aarti?

    Om Jai Jagdish Hare Aarti is sung by Anuradha Paudwal.

  2. Who is the music director of Om Jai Jagdish Hare Aarti?

    Om Jai Jagdish Hare Aarti is composed by Arun Paudwal.

  3. Which album is the song Om Jai Jagdish Hare Aarti from?

    Om Jai Jagdish Hare Aarti is a hindi song from the album Aartiyan

  4. When was Om Jai Jagdish Hare Aarti released?

    Om Jai Jagdish Hare Aarti is a hindi song released in 2011.

  5. What is the duration of Om Jai Jagdish Hare Aarti?

    The duration of the song Om Jai Jagdish Hare Aarti is 5:31 minutes.

निष्कर्ष :

दोस्तों कमेंट के माध्यम से यह बताएं कि “श्री हरि आरती : ॐ जय जगदीश हरे लिरिक्स – Om Jai Jagdish Hare Lyrics” लिरिक्स वाला यह आर्टिकल आपको कैसा लगा | आप सभी से निवेदन हे की अगर आपको हमारी पोस्ट के माध्यम से सही जानकारी मिले तो अपने जीवन में आवशयक बदलाव जरूर करे फिर भी अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके | आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए आर्टिकल लाने के लिए प्रेरित करता है | 

धन्यवाद ! 🙏 हर हर महादेव 🙏