या देवी सर्वभूतेषु | Ya Devi Sarvabhuteshu Lyrics

104546
Ya Devi Sarvabhuteshu Lyrics - या देवी सर्वभूतेषु

माँ भगवती को यह स्तोत्र बहुत प्रिय जो भी भक्त Ya Devi Sarvabhuteshu Lyrics स्त्रोत्र या देवीसूक्तम्‌ देवी सर्वभूतेषु को सच्चे मन से स्मरण करता है मा भगवती की कृपा उस पर सदैव बनी रहती है इस स्तोत्र की महिमा बहुत अद्भुद है सबका मंगल करने वाली माँ भगवती के चरणों में प्रणाम |

Ya Devi Sarvabhuteshu Lyrics Detais:

मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु
शैली :तंत्रोक्त देवी सूक्तम्
सूत्र :पुराण
मूल भाषा :संस्कृत
संबधित :आदिशक्ति माँ दुर्गा

या देवी सर्वभूतेषु – Ya Devi Sarvabhuteshu Lyrics in Hindi

माना जाता है कि हजारों साल पहले, एक महिला ने एक ही अहसास के बाद परमानंद में नृत्य करना शुरू कर दिया था जिसने उसके जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया: उसका जीवन अनंत चेतना से उत्पन्न हुआ जो निराकार और हर रूप में मौजूद है। जो उभर कर आया वह उस चेतना की स्तुति में इस परमानंद की एक सहज अभिव्यक्ति थी जिसे आज हम ‘या देवी सर्वभूतेषु’ के नाम से जानते हैं।

संगीतकार ऋषि वाक ने मानव अस्तित्व के हर हिस्से पर कब्जा कर लिया है और इसका श्रेय देवी माँ को दिया है। ऋग्वेद में उत्पन्न होने वाला यह मंत्र दैनिक नवरात्रि की प्रार्थना और साधना का अंग बन गया है। सरल और गहरा।

सर्व मंगल मांगल्येसभी मंगलो मे मंगल (शुभ)
शिवेभगवान शिव (कल्याणकारी)
सर्व अर्थ साधिकेसभी मनोरथ (इच्छओ) को पूर्ण करने वाली
शरण्येशरण मे आना
त्रयम्बकेतीन नेत्रो (आंखो) वाली
गौरीभगवान शिव की अर्धांगिनी
नारायणीभगवान विष्णु की पत्नी
नम: अस्तुतेप्रणाम करते है।

तंत्रोक्त देवी सूक्तम् : Tantroktam Devi Suktam Lyrics : Yaa Devi Sarvbhuteshu

सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोस्तुते॥

हिंदी में अर्थ : हे नारायणी! तुम सब प्रकार का मंगल प्रदान करने वाली मंगल मयी हो। कल्याण दायिनी शिवा हो। सब पुरुषार्थो को (धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष को) सिद्ध करने वाली हो। शरणागत वत्सला, तीन नेत्रों वाली एवं गौरी हो। हे नारायणी, तुम्हें नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषु शक्ति-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सब प्राणियों में शक्ति रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषु विद्या-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सब प्राणियों में विद्या के रूप में विराजमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है। मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ।

या देवी सर्वभूतेषु मातृ-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सभी प्राणियों में माता के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषु चेतनेत्यभि-धीयते।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सब प्राणियों में चेतना कहलाती हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है। (चेतना – स्वयं के और अपने आसपास के वातावरण के तत्वों का बोध होने, उन्हें समझने तथा उनकी बातों का मूल्यांकन करने की शक्ति)

या देवी सर्वभूतेषु दया-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सब प्राणियों में दया के रूप में विद्यमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषु क्षुधा-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी समस्त प्राणियों में भूख के रूप में विराजमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

Read More Article : माँ नवदुर्गा के 9 रूप

या देवी सर्वभूतेषु तृष्णा-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सभी प्राणियों में चाहत के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषु शांति-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी समस्त प्राणियों में शान्ति के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषू क्षान्ति रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सब प्राणियों में सहनशीलता, क्षमा के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषु बुद्धि-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सभी प्राणियों में बुद्धि के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है

या देवी सर्वभूतेषु श्रद्धा-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी समस्त प्राणियों में श्रद्धा, आदर, सम्मान के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषु भक्ति-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सब प्राणियों में भक्ति, निष्ठा, अनुराग के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है

या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मी-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सब प्राणियों में लक्ष्मी, वैभव के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषु स्मृती-रुपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : उस देवी को, जो सभी जीवों में स्मृति के रूप में निवास कर रही है,उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

या देवी सर्वभूतेषु तुष्टि-रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

हिंदी में अर्थ : जो देवी सब प्राणियों में सन्तुष्टि के रूप में विराजमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है।

Read More : Devi shuktam – Tantroktam Devisuktam

‘या देवी सर्वभूतेषु’ मंत्र का महत्व :

  • सर्वव्यापी: देवी सभी में चेतना के रूप में मौजूद हैं। ऐसा कोई स्थान नहीं है जहां देवी न हों।
  • सभी रूपों में: प्रकृति और उसकी विकृतियां सभी देवी के रूप हैं। सुंदरता, शांति सभी देवी के रूप हैं। क्रोध भी करें तो भी देवी हैं। तुम लड़ते हो तो वह भी देवी है।
  • प्राचीन और नवीन : हर क्षण चेतना के साथ जीवंत है। हमारी चेतना ‘निथ नूतन’ एक ही समय में प्राचीन और नई है। वस्तुएं या तो पुरानी हैं या नई, लेकिन प्रकृति में आप पुराने और नए को एक साथ विद्यमान पाएंगे। सूरज पुराना भी है और नया भी। एक नदी में हर पल ताजा पानी बहता है, लेकिन फिर भी बहुत पुराना है। इसी तरह मानव जीवन बहुत प्राचीन है लेकिन साथ ही नया भी है। तुम्हारा मन वही है।

‘या देवी सर्वभूतेषु’ मंत्र से क्या लाभ होते हैं ?

  • इस स्त्रोत का पाठ करने से भक्त को मन की शांति मिलती है और वह व्यक्ति सभी बुराइयों और बुरे विचारों से दूर रहता है।
  • इस स्तोत्र का नियमित पाठ करने से व्यक्ति को सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता हे और आत्मविश्वास बढ़ता हे
  • पूरी भक्ति के साथ इस स्त्रोत का पाठ करने से आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं।
  • अपने घर में प्रतिदिन इस स्त्रोत का पाठ करने से आपके घर से हर प्रकार की नकारात्मकता दूर होती है।

Ya Devi Sarvabhuteshu Lyrics in English with Meaning – या देवी सर्वभूतेषु लिरिक्स अर्थ सहित

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Vishnumaayeti Shabditaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Called Vishnumaya,Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Chetanety-Abhidhiiyate ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Reflected as Consciousness, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Buddhi-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Intelligence, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Nidra-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Sleep, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Kssudhaa-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Hunger, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Chaayaa-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Shadow (of Higher Self), Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Shakti-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Power, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Trshnnaa-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Thirst, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Kshaanti-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Forbearance, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Jaati-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Genus (Original Cause of Everything), Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Lajjaa-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Modesty, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Shaanti-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Peace, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Shraddhaa-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Faith, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devii Sarva-Bhutessu Kaanti-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Loveliness and Beauty, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Lakshmii-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Good Fortune, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Vrtti-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Activity, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Smrti-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Memory, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Dayaa-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Kindness, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Tushtti-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Contentment, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Maatr-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Mother, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

Yaa Devi Sarva-Bhutessu Bhraanti-Ruupenna Samsthitaa ।
Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namas-Tasyai Namo Namah ॥

Meaning in English : To that Devi Who in All Beings is Abiding in the Form of Delusion, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations to Her, Salutations again and again.

इसे भी देखे

FAQS For Ya Devi Sarvabhuteshu Mantra

  • या देवी सर्वभूतेषु स्त्रोत्र का पाठ कब करे

    “या देवी सर्वभूतेषु” देवी दुर्गा को समर्पित एक लोकप्रिय स्तोत्र है। ऐसा माना जाता है कि इस स्तोत्र को भक्ति और पूर्ण भाव से पढ़ने से देवी का आशीर्वाद और सुरक्षा प्राप्त होता हे। हालाँकि इस स्तोत्र को पढ़ने के लिए कोई विशेष समय या दिन का उल्लेख नहीं है, लेकिन देवी दुर्गा को समर्पित इस स्तोत्र को अक्सर नवरात्रि के दौरान, दुर्गा पूजा, नवरात्रि के नौ दिन और देवी माता की जयंती जैसे त्योहारों के दौरान पढ़ा जाता है।

    हालाँकि, आप किसी भी समय “या देवी सर्वभूतेषु” स्तोत्र का पाठ कर सकते हैं जब आप देवी दुर्गा की दिव्य ऊर्जा से जुड़ाव महसूस करते हैं और उनका आशीर्वाद चाहते हैं। आप इसे अपनी नियमित प्रार्थनाओं के हिस्से के रूप में या विशेष अवसरों के दौरान दैनिक रूप से पढ़ सकते हैं

निष्कर्ष 

दोस्तों कमेंट के माध्यम से यह बताएं कि भगवान् शिव के “Ya Devi Sarvabhuteshu Lyrics” लिरिक्स वाला यह आर्टिकल आपको कैसा लगा | आप सभी से निवेदन हे की अगर आपको हमारी पोस्ट के माध्यम से सही जानकारी मिले तो अपने जीवन में आवशयक बदलाव जरूर करे फिर भी अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके |

आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए आर्टिकल लाने के लिए प्रेरित करता है | भगवान् शिव से जुडी कथाओ के बारेमे जानने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे धन्यवाद ! 🙏

3 COMMENTS