कर्पूर गौरं करुणावतारं मंत्र हिंदी अर्थ – Karpur Gauram Mantra Meaning

57525
Karpur Gauram Mantra With Meaning - कर्पूर गौरं करुणावतारं मंत्र हिंदी अर्थ सहित

Karpur Gauram Mantra is one of the most famous mantras that you would hear at the time of a Mangal Aarti. The Karpur Gauram mantra is regarded as a powerful tool for spiritual growth and transformation.

हर आरती या पूजा के बाद कर्पूरगौरम् करुणावतारम मंत्र का जाप किया जाता है क्योकि इस मंत्र को सर्वप्रथम भगवान विष्णु ने भगवान शंकर तथा पार्वती के विवाह में उपयोग किया था। “कर्पूर गौरं करुणावतारं” मंत्र एक पवित्र संस्कृत मंत्र है जो भगवान् शिव को समर्पित है। और इसे हिंदू धर्म में सबसे शक्तिशाली और पूजनीय मंत्रों में से एक माना जाता है।

कर्पूर गौरम करुणावतारं मंत्र का अर्थ :

कर्पूरगौरंकर्पूर के समान गौर वर्ण वाले।
करुणावतारंकरुणा के जो साक्षात् अवतार हैं।
संसारसारंसमस्त सृष्टि के जो सार हैं।
भुजगेंद्रहारम्जो सांप को हार के रूप में धारण करते हैं।
सदा वसतं हृदयाविन्दे हृदय अरविंदे का अर्थ है ‘दिल में’ (कमल के रूप में शुद्ध)। कमल, हालांकि गंदे पानी में पैदा होता है, उसके चारों ओर कीचड़ का भी उस पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। इसी प्रकार भगवान् शिव हमेशा (सदा) रहते हैं (वसंत) प्राणियों के हृदय में जिससे उनपर सांसारिक मामलों का प्रभावित कोई नहीं पड़ता हैं।
भवंभगवान
भवानीसहितं नमामिदेवी भवानी के रूप में जो पार्वती और भगवान् शिव को मैं प्रणाम करता हूँ।

Karpur Gauram Mantra With Meaning – कर्पूर गौरं करुणावतारं मंत्र हिंदी अर्थ सहित

कर्पूरगौरं मंत्र:

कर्पूरगौरं करुणावतारं
संसारसारम् भुजगेन्द्रहारम् ।
सदावसन्तं हृदयारविन्दे
भवं भवानीसहितं नमामि ॥

कर्पूर गौरम करुणावतारं मंत्र का अर्थ : कर्पूर के समान गौर वर्ण वाले। करुणा के जो साक्षात् अवतार हैं समस्त सृष्टि के जो सार हैं। जो सांप को हार के रूप में धारण करते हैं।
जो भगवान् शिव, पार्वती के साथ सदैव मेरे हृदय में निवास करते हैं उनको मेरा नमन है।

  • “कर्पूरगौरं” शब्द का अर्थ होता है “कर्पूर जैसी सफेदता धारण करने वाले और गौर रंग के जैसे स्वच्छ होने वाले”।
  • “करुणावतारं” का अर्थ होता है “दयालु अवतार”। जो याचना और करुणा का प्रतीक है
  • “संसारसारं भुजगेन्द्रहारम्” शब्दों का अर्थ होता है भूलों को दूर करने वाले और सारे संसार के परम आदर्श को धारण करने वाले।
  • “सदावसन्तं हृदयारविन्दे” वह जो हृदय में निवास करता है जो कमल के समान शुद्ध है
  • “भवं भवानीसहितं नमामि” मैं भगवान शिव और उनकी साथी माता पार्वती को नमन करता हूं।
Vedasara Shiva Stotram Lyricsवेदसारशिवस्तोत्रम् – पशूनां पतिं पापनाशं
Shiv Bilvashtakam Lyricsबिल्वाष्टकम् – त्रिदलं त्रिगुणाकारं
Mrityunjaya Stotram in Sanskritमहामृत्युंजय स्तोत्र हिंदी में
Shiv Tandav Stotram Lyricsशिव तांडव स्तोत्रम्
Shiva Panchakshar Stotra Lyricsशिव पंचाक्षर स्तोत्र अर्थ सहित
Mahamrityunjaya Mantraमहामृत्युंजय मंत्र
Aum Chantingॐ का अर्थ और महत्व
Om Purnamadah Purnamidamॐ पूर्णमद: पूर्णमिदं

Karpur Gauram Mantra Meaing in English – कर्पूर गौरम करुणावतारं मंत्र का अर्थ

Karpua Gauram Karuṇavataram
Sansarsaram Bhujagendraharam |
Sadavasantam Hṛdayaravinde
Bhavam Bhavanisahitam Namami ||

  • Karpūragauraṁ: The Divine One, Who Is White As Camphor / Pure As Camphor
  • Karuṇāvatāraṁ: Who Is An Embodiment Of Solicitude And Compassion
  • Sansārsāram: The True Spirit Of The Universe
  • Bhujagendrahāram: The One Who Draped The Serpent King
  • Sadāvasantaṁ Hṛdayāravinde: One Who Resides In The Heart That Is Pure As Lotus (Though Lotus Is Born In Mud, It Stays Untouched By The Mud). In The Heart That Is Untouched By Worldly Matters.
  • Bhavaṁ Bhavānīsahitaṁ Namāmi: I Bow To Lord Shiva And His Companion/Consort Goddess Bhavani.

Meaning in English : Karpur Gauram Karunavtaaram is an ancient Sanskrit sloka related to Lord Shiva. It is found inYajurveda. Shiva Yajur Mantra (Karpur Gauram Karunavtaram) is a beautiful ancient Sanskrit mantra related to Lord Shiva. It is found in Yajurveda, and called as Shiva Stuti.

कर्पूर गौरं करुणावतारं मंत्र जाप के लाभ – Benefits of Karpur Gauram Mantra

“कर्पूर गौरं करुणावतारं” मंत्र के जाप से जुड़े कुछ लाभ इस प्रकार हैं:

  • माना जाता है कि Karpur Gauram Mantra में अत्यधिक उपचार शक्तियां होती हैं और अक्सर शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक कल्याण के लिए इसका जाप किया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि यह जाप करने वाले को बीमारियों, दुर्घटनाओं और अन्य नकारात्मक ऊर्जाओं से बचाता है।
  • ऐसा माना जाता है कि कर्पूर गौरम मंत्र का जाप करने से किसी के जीवन से बाधाओं और कठिनाइयों को दूर करने में मदद मिलती है। सफलता प्राप्त करने के लिए भगवान शिव का आशीर्वाद और मार्गदर्शन पाने के लिए अक्सर इसका पाठ किया जाता है।
  • मंत्र का मन पर शांत और सुखदायक प्रभाव पड़ता है। नियमित जप से तनाव, चिंता और बेचैनी को कम करने में मदद मिल सकती है।
  • कर्पूर गौरम मंत्र को आध्यात्मिक विकास और परिवर्तन के लिए एक शक्तिशाली उपकरण माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह उच्च चेतना के द्वार खोलता है और भगवान शिव के साथ उनके आध्यात्मिक संबंध को गहरा करता है।
  • मंत्र हिंदू दर्शन में मुक्ति (मोक्ष) की अवधारणा से जुड़ा है। माना जाता है कि भक्ति और ईमानदारी से इसका जाप करने से आत्मा को जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्ति मिलती है
  • कहा जाता है कि मंत्र जाप से उत्पन्न कंपन आसपास के वातावरण को शुद्ध करती है और उसे सकारात्मक ऊर्जा से भर देती है। जो दैवीय आशीर्वाद और सकारात्मक प्रभावों को आकर्षित करता है।

कर्पूर गौरं करुणावतारं” मंत्र का पाठ कब करे

“कर्पूर गौरं करुणावतारं” मंत्र का पाठ आप अपनी आवश्यकता अनुसार किसी भी समय कर सकते हैं। लेकिन निम्नलिखित समय में इसका जाप करना विशेष रूप से शुभ है:

  1. सुबह : ब्रह्ममुहूर्त में इस मंत्र का जाप करना चाहिए तो इससे दिनभर की शुरुआत में प्राप्त शांति और प्रकाश की भावना होती है।
  2. संध्या काल : कुछ लोग इस Karpur Gauram Mantra का संध्या काल में पाठ करने की सलाह देते हैं। इससे दिन की थकान दूर होती है और आपका मन शांत होता है।
  3. आरती या भजन के बाद : आरती के समापन के बाद इस मंत्र का जाप करना लाभदायक माना जाता हे
  4. ठिनाई के समय: यह एक ऐसा समय है जब हमें अतिरिक्त शक्ति और समर्थन की आवश्यकता हो सकती है, और कर्पूर गौरं करुणावतारं मंत्र का जाप हमें शक्ति और समर्थन प्रदान करने में मदद कर सकता है।

Karpur Gauram Mantra in Gujarati – કર્પૂરગૌરં કરૂણાવતારં

કર્પૂરગૌરં કરૂણાવતારં સંસારસારમ્ ભુજગેન્દ્રહારમ ।
સદાવસન્તં હ્રદયારવિન્દે ભવં ભવાનીસહિતં નમામિ ।।

આ મંત્ર માં શિવજી ની સ્તુતિ કરવા માં આવે છે. તેનો અર્થ આ પ્રમાણે છેઃ

  • કર્પૂરગૌરં : કર્પૂર ની સમાન ગૌર વર્ણ વાળા
  • કરૂણાવતારં : સાક્ષાત કરૂણા ના અવતાર..
  • સંસારસારમ્ : જે આખી સૃષ્ટી ના સાર છે.
  • ભુજગેંદ્રહારમ : જે સાંપ ને હાર ના રૂપમાં ધારણ કરે છે.
  • સદા વસંત હ્રદયાવિનદે ભવંભવાની સહિતં નમામિ : જે ભગવાન શિવ, માતા પાર્વતી સહિત મારા હ્રદય માં કાયમ નિવાસ કરે છે તેમને હું નમન કરું છું.

ગુજરાતી અર્થઃ જે કર્પૂર જેવા ગૌર વર્ણવાળા છે, કરૂણા ના અવતાર છે, સંસારનો સાર છે અને નાગ નો હાર ધારણ કરે છે, તે ભગવાન શિવ, માતા ભવાની સહિત મારા હ્રદય માં કાયમ નિવાસ કરે, તેમને હું નમન કરું છું.

FAQs For Karpur Gauram Mantra

  • कर्पूर गौरम करुणावतारं किसका मंत्र है?

    यह मंत्र भगवान शिव का प्रमुख मंत्र माना जाता है और मान्यता अनुसार इसके उच्चारण मात्र से भगवान शिव को प्रसन्न किया जा सकता है। यह भगवान शिव से संबंधित एक प्राचीन संस्कृत श्लोक है

  • कपूर गौरम करुणावतारं का मतलब क्या है?

    कर्पूर के समान गौर वर्ण वाले। करुणा के जो साक्षात् अवतार हैं समस्त सृष्टि के जो सार हैं। जो सांप को हार के रूप में धारण करते हैं।
    जो भगवान् शिव, पार्वती के साथ सदैव मेरे हृदय में निवास करते हैं उनको मेरा नमन है।

  • आरती के बाद क्यों बोलते हैं कर्पूरगौरं करुणावतारं मंत्र ?

    क्योकि शिव को जीवन और मृत्यु का देवता माना गया है. इसी के साथ इन्हें पशुपतिनाथ भी कहा जाता है. पशुपति का अर्थ है संसार के जितने भी जीव हैं (मनुष्य सहित) उन सब का अधिपति. यह मंत्र आरती के अंत में बोला जाता है ताकि भक्त अपनी पूजा को समाप्त करते समय भगवान् शिव की महिमा और गुणों का गान कर सकें।

  • आरती के बाद कौन सा मंत्र पढ़ा/बोला जाता है?

    कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम्।
    सदा बसन्तं हृदयारबिन्दे भबं भवानीसहितं नमामि।।

निष्कर्ष

दोस्त! अगर आपको “Karpur Gauram Mantra With Meaning” वाला यह आर्टिकल पसंद है तो कृपया इसे अपने दोस्तों को सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूलें। आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए गाने के बोल लाने के लिए प्रेरित करता है

हमे उम्मीद हे की भगवान शिव भक्तों यह कर्पूर गौरं करुणावतारं मंत्र हिंदी अर्थ सहित पसंद आया होगा | अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके |

अगर आप अपने किसी पसंदीदा गाने के बोल चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर हमें बेझिझक बताएं हम आपकी ख्वाइस पूरी करने की कोशिष करेंगे धन्यवाद!