त्वमेव माता च पिता त्वमेव – Twameva Mata Cha Pita Twameva Lyrics

61307
Twameva Mata Cha Pita Twameva Lyrics - त्वमेव माता च पिता त्वमेव

Twameva Mata Cha Pita Twameva Lyrics : त्वमेव माता च पिता त्वमेव का अर्थ है हे प्रभु आप ही माता हो आप ही पिता हो जो भगवान को संबोधित करते हुए कहा गया है इस श्लोक में दिखाया गया है कि माता-पिता बच्चे के लिए दो मात्र उपदेशक नहीं होते बल्कि वे उसके जीवन के सबसे महत्वपूर्ण संसाधक होते हैं। वे उसे न सिर्फ शिक्षा देते हैं, बल्कि उसके आचरण और सोच को भी संभालते हैं।

त्वमेव माता च पिता त्वमेव श्लोक का प्रयोग अक्सर परिवारिक समारोहों, पूजा-अर्चना, धार्मिक उत्सवों और सत्संग में किया जाता है।

Twameva Mata Cha Pita Twameva Details:

त्वमेवतुम ही।
मातामाँ, जिसने हमें जन्म दिया।
पिताजन्मदाता, पालनकर्ता।
बंधुभाई, रिश्तेदार
सखामित्र।
विद्याज्ञान, बुद्धि, शिक्षा।
द्रविणंसम्पत्ति (बल, शौर्य व सार्मथ्य)
सर्वम्सब कुछ
मम देव देवमेरे भगवन्!

त्वमेव माता च पिता त्वमेव हिंदी अर्थ सहित – Twameva Mata Cha Pita Twameva Lyrics

त्वमेव माता च पिता त्वमेव।
त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव।
त्वमेव विद्या द्रविणम् त्वमेव।
त्वमेव सर्वम् मम देव देव।

हे ईश्वर! तुम्हीं मेरी माता हो, तुम्हीं मेरे पिता हो, तुम्हीं मेरे भाई हो तथा तुम्हीं मेरे मित्र हो। तुम्हीं मेरे ज्ञान (विद्या), मेरा धन (संपदा,पराक्रम,सामर्थ्य आदि) हो। हे देवाधिदेव तुम्हीं मेरे सर्वस्व हो।

ये जो इस श्लोक में कहा गया है ये बाते केवल नवधा भक्ति में ही आती है क्योंकि नवधा भक्ति में ही ये कहा गया है की ईश्वर पार्थवी के कण कण में है

त्वमेव माता च पिता त्वमेव: इस पंक्ति में, यह व्यक्त किया जाता है कि भगवान एक से नहीं, बल्क हर एक व्यक्ति के जीवन में माता और पिता के रूप में मौजूद होते हैं। वे हमारे संसारिक आधार होते हैं, हमें जन्म देते हैं, पालन-पोषण करते हैं और हमारे विकास में मदद करते हैं। तुम ही मेरी माँ, पिता और उनके पूर्वज हो। जीवन के आरंभ होने से पहले तो शिशु और माँ एक ही शरीर में निवास करते हैं। शिशु जब बोलना आरंभ करता है तो अधिकांशतः वह पहला शब्द माँ ही बोलता है, क्योंकि उसके लिए माँ, और “मैं” एक ही है।

मातृत्व के महत्व: यह श्लोक मातृत्व की महत्वपूर्णता को दर्शाता है। यह प्रेम, देखभाल और संरक्षण के भाव को जताता है जो माताओं की प्राकृतिक गुणवत्ता है। यह हमें याद दिलाता है कि माता हमारे जीवन में अत्यंत महत्वपूर्ण हैं और हमें उनके प्रति आभार व्यक्त करना चाहिए।

पितृत्व के महत्व: इस श्लोक के माध्यम से पितृत्व की महत्वता भी व्यक्त होती है। पिताजी हमारे जीवन के स्थापक होते हैं और हमें सही मार्गदर्शन प्रदान करते हैं। यह हमें उनके प्रति सम्मान और आदर्शों का महत्व समझाता है।

प्रभु आप ही हमारे पिता के रूप में हमारी देख-भाल करते हो। जीवन में हमारे विकास और सुरक्षा का महत्वपूर्ण कार्य तुम मेरे पिता के रूप में करते हो। अतः हे भगवन् मेरे लिए तो सर्वप्रथम तुम ही मेरी माँ हो और तुम ही मेरे पिता हो।

त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव: यह पंक्ति बताती है कि भगवान वही हमारा सच्चा बंधु और सखा होते हैं जो हमेशा हमारे साथ रहते हैं और हमें सहायता और समर्थन प्रदान करते हैं। हे प्रभु तुम ही मेरे सगे भाई, सौतेले भाई, मौसेरे भाई अर्थात् मेरे सब प्रकार के सम्बन्धों के भाई हो। इसी प्रकार मेरे मोहल्ले के मित्र, विद्यालय के मित्र, समाज के मित्र, पुरुष मित्र और महिला मित्र सभी प्रकार के मित्र हो। इस प्रकार मेरे सभी मित्रों में तुम ही हो।

त्वमेव विद्या द्रविणम् त्वमेव: इस पंक्ति में, यह कहा गया है कि भगवान ही हमारी ज्ञान और संपदा होते हैं। वे हमें ज्ञान की प्राप्ति करवाते हैं और हमारे पास संपदा का स्रोत होते हैं। द्रविणम् के कई अर्थ होते हैं, सामान्यतः प्रचलित अर्थ में द्रविणम् को द्रव्य अथवा चल सम्पत्ति के रूप में भी जाना जाना जाता है। तुम इस जगत् में द्रव्य हो, इस जीवन का सार हो, तुम ही इसका आधार हो। तुम ही इस जगत् में शक्ति हो।

त्वमेव सर्वम् मम देव देव: इस पंक्ति में, यह घोषित किया गया है कि भगवान ही मेरे सब कुछ हैं। वे मेरे सर्वोपरि आधार हैं और मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण तत्व हैं। देवता जैसे अग्नि, वरुण, वायु, सूर्य, इन्द्र आदि अपनी इन भिन्न-भिन्न शक्तियों से पृथ्वी पर व्याप्त इस जगत् को आधार देते हैं। हे प्रभु इन सभी देवों को इनकी शक्तियाँ आप ही देते हैं। इस प्रकार इन सभी देवताओं के भी स्वामी हे प्रभु तुम ही मेरे लिए सर्वस्य हो।

त्वमेव माता च पिता त्वमेव

Twameva Mata Cha Pita Twameva Meaning

Tvamev Maata Ch Pita Tvamev, Tvamev Bandhushch Sakha Tvamev
Tvamev Vidya Dravidam Tvamev, Tvamev Sarvam Mam Dev Dev

Meaning:
1: You Truly are my Mother And You Truly are my Father .
2: You Truly are my Relative And You Truly are my Friend.
3: You Truly are my Knowledge and You Truly are my Wealth.
4: You Truly are my All, My God of Gods.

You are the mother, you are the father, you are the brother, you are the friend, you are the knowledge, you are the wealth. O god of the gods! You are my everything.

ત્વમેવ માતા ચ પિતા ત્વમેવ – Twameva Mata Cha Pita Twameva Mantra in Gujarati

ત્વમેવ માતા ચ પિતા ત્વમેવ
ત્વમેવ બંધુશ્ચ સખા ત્વમેવ ।
ત્વમેવ વિદ્યા દ્રવિણં ત્વમેવ
ત્વમેવ સર્વં મમ દેવ દેવ ॥

અર્થાત: તમે જ માતા છો, તમે જ પિતા છો, તમે જ બંધુ છો, તમે જ મિત્ર છો, તમે જ વિદ્યા છો, તમે જ ધન છો, દેવોના દેવ તમે જ મારું સર્વશ્વ છો. (પાંડવગીતા)
  • ત્વમેવ માતા : તમે જ માતા છો તે આપણને યાદ અપાવે છે કે માતાઓ આપણા જીવનમાં ખૂબ જ મહત્વપૂર્ણ છે અને આપણે તેમના પ્રત્યે કૃતજ્ઞતા વ્યક્ત કરવી જોઈએ.
  • ચ પિતા ત્વમેવ : તમે જ પિતા છો પિતા આપણા જીવનના સ્થાપક છે અને આપણને યોગ્ય માર્ગદર્શન આપે છે. આનાથી આપણે તેમના માટે આદર અને આદર્શોનું મહત્વ સમજીએ છીએ.
  • ત્વમેવ બંધુશ્ચ સખા ત્વમેવ : તમે જ બંધુ છો તમે જ મિત્ર છો આ પંક્તિ આપણને જણાવે છે કે ભગવાન આપણો સાચો ભાઈ અને મિત્ર છે જે હંમેશા આપણી સાથે છે અને આપણને મદદ અને ટેકો આપે છે.
  • ત્વમેવ વિદ્યા દ્રવિણં ત્વમેવ : તમે જ વિદ્યા છો તમે જ ધન છો. આ પંક્તિમાં કહેવાયું છે કે ભગવાન આપણું જ્ઞાન અને સંપત્તિ છે. તેઓ અમને જ્ઞાન મેળવવામાં મદદ કરે છે અને સંપત્તિનો સ્ત્રોત છે.
  • ત્વમેવ સર્વં મમ દેવ દેવ : દેવોના દેવ તમે જ મારું સર્વશ્વ છો. આ પંક્તિમાં જાહેર કરવામાં આવ્યું છે કે ભગવાન મારું સર્વસ્વ છે. તેઓ મારો અંતિમ પાયો છે અને મારા જીવનનો સૌથી મહત્વપૂર્ણ તત્વ છે.
Vedasara Shiva Stotram Lyricsवेदसारशिवस्तोत्रम् – पशूनां पतिं पापनाशं
Shiv Bilvashtakam Lyricsबिल्वाष्टकम् – त्रिदलं त्रिगुणाकारं
Mrityunjaya Stotram in Sanskritमहामृत्युंजय स्तोत्र हिंदी में
Shiv Tandav Stotram Lyricsशिव तांडव स्तोत्रम्
Shiva Panchakshar Stotra Lyricsशिव पंचाक्षर स्तोत्र अर्थ सहित
Mahamrityunjaya Mantraमहामृत्युंजय मंत्र
Aum Chantingॐ का अर्थ और महत्व
Om Purnamadah Purnamidamॐ पूर्णमद: पूर्णमिदं

निष्कर्ष

दोस्त! अगर आपको “Twameva Mata Cha Pita Twameva Lyrics” वाला यह आर्टिकल पसंद है तो कृपया इसे अपने दोस्तों को सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूलें। आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए गाने के बोल लाने के लिए प्रेरित करता है

हमे उम्मीद हे की भगवान शिव भक्तों यह त्वमेव माता च पिता त्वमेव हिंदी अर्थ सहित पसंद आया होगा | अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके |

अगर आप अपने किसी पसंदीदा गाने के बोल चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर हमें बेझिझक बताएं हम आपकी ख्वाइस पूरी करने की कोशिष करेंगे धन्यवाद!