Breaking

मंगलवार, 14 नवंबर 2017

गणेशजी आरती | Arti Ganeshji | Jai Ganesh Jai Ganesh deva

Jai Ganesh Aarti: गणेश जी की आरती (हिन्दी)

Ganesh Ji Ki Aarti, Jai Ganesh Jai Ganesh Deva Aarti : हर पूजा व हवन में सबसे पहले गणपति की पूजा की जाती है। उनकी आरती भी हर पूजन में अन‍िवार्य रूप से शामिल रहती है। गणेश चतुर्थी पर उनकी पूजा का पूर्ण फल पाने के ल‍िए जय गणेश जय गणेश देवा माता जाकी पार्वती पिता महादेवा आरती गाएं। सभी विघ्न दूर करने के लिए गणेश भक्त बप्पा की पूजा-अर्चना करते हैं साथ ही उनकी आरती भी गाते है।
Arti Ganeshji | Jai Ganesh Jai Ganesh deva

श्लोक
व्रकतुंड महाकाय, सूर्यकोटी समप्रभाः | 
निर्वघ्नं कुरु मे देव, सर्वकार्येरुषु सवर्दा ||

Ganesh Aarti- Jai Ganesh, Jai Ganesh , Jai Ganesh Deva lyrics in hindi

गणेश जी की आरती
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा, 
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा, 
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा 

एक दंत दयावंत, चार भुजाधारी, 
माथे पे सिंदूर सोहे, मूसे की सवारी,
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा 

 अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया, 
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया, 
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा 

हार चढ़ै, फूल चढ़ै और चढ़ै मेवा, 
लड्डुअन को भोग लगे, संत करे सेवा, 
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा 


 दीनन की लाज राखो, शंभु सुतवारी, 
कामना को पूर्ण करो, जग बलिहारी, 
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा 

गणेश जी की आरती सिंदूर लाल चढ़ायो (Sindoor Laal Chadhayo Aarti lyrics in hindi)


स‍िंदूर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको।
दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको।
 
हाथ लिए गुडलद्दु सांई सुरवरको।
महिमा कहे न जाय लागत हूं पादको ॥1॥

जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता।
धन्य तुम्हारा दर्शन मेरा मन रमता ॥धृ॥
 
अष्टौ सिद्धि दासी संकटको बैरि।
विघ्नविनाशन मंगल मूरत अधिकारी।

कोटीसूरजप्रकाश ऐबी छबि तेरी।
गंडस्थलमदमस्तक झूले शशिबिहारि ॥2॥
 
जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता।
धन्य तुम्हारा दर्शन मेरा मन रमता ॥
 
भावभगत से कोई शरणागत आवे।
संतत संपत सबही भरपूर पावे।

ऐसे तुम महाराज मोको अति भावे।
गोसावीनंदन निशिदिन गुन गावे ॥3॥
 
जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता।
धन्य तुम्हारा दर्शन मेरा मन रमता ॥

Ganeshji Aarti (English)


 Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh deva, 
Mata jaki parvati, pita mahadeva, 
Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh deva 

 Ek dant dayavant, char bhujadhari, 
Mathe pe Sindur sohe, muse ki savari, 
Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh deva 

 Andhan ko aankh det, kordhin ko kaya, 
banjan ko putar det, nirdhan ko maya, 
Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh deva 

 har chade, full chade aur chade meva, 
laduann ko bhog lge, sant kre seva, 
Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh deva 

 dinan ki laaj rakho, shambhu sutvari, 
kamna ko purn kro, jag balihari, 
Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh deva 


गणेश जी की आरती सिंदूर लाल चढ़ायो (Sindoor Laal Chadhayo Aarti lyrics in English)

Sindoor Laal Chadhayo Aarti lyrics
Offer red vermilion to the good Gajmukh.
Dondil Lal Biraje Sut Gauriharko.
 
Gudladdu Sai Survarko with hands.
Do not say glory, I am the cost of feet 1॥

Jai Jai Shree Ganraj Vidya Sukhdata.
Blessed is your darshan, my mind is engrossed.
 
Ashtau Siddhi Dasasi is the enemy of trouble.
Disruption Mangal Murat Officer.

Kotisurajprakash ab chhabi teri.
Gandasthaldamastak Swing Shashi Bihari 2॥
 
Jai Jai Shree Ganraj Vidya Sukhdata.
Blessed your darshan makes my mind happy.
 
Somebody should take refuge in devotion.
May the saintly wealth be plentiful.

That's how you Maharaj Moko is very passionate.
Gosavinandan Nishidin Gun Gave 3॥
 
Jai Jai Shree Ganraj Vidya Sukhdata.
Blessed your darshan makes my mind happy.

Jai Ganesh Aarti: गणपति की स्थापना के बाद करें 'जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा' की आरती, बनेंगे सब काज


अगर आपको विनायक श्रीगणेश की आरती पसंद आये तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि हम आपके लिए और भी एक से बढ़कर एक भजन इसी तरह लाते रहें.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें