क्यों मारा भृगु ऋषि ने भगवान विष्णु की छाती में लात

1169
क्यों मारा भृगु ऋषि ने भगवान विष्णु की छाती में लात

क्यों मारा भृगु ऋषि ने भगवान विष्णु की छाती में लात ? कलयुग की शुरुआत में जब भगवान वरहा वैकुंठ चले गए थे। लेकिन ब्रह्मा धरती पर विष्णु भगवान को चाहते थे। जिसके लिए नारद मुनी को कोई युक्ति सोचने के लिए कहा गया।

नारद मुनी ने गंगा के तट पर यज्ञ की तैयारी में जुटे जब बेहतर ब्रह्मांड की खातिर ऋषि मुनियों ने एक यज्ञ शुरु किया था। लेकिन सवाल ये था कि ब्रह्मा, विष्णु और महेश में उस यज्ञ का पुरोहित किसे बनाया जाए। सभी ऋषि मुनियों ने ये जिम्मेदारी भृगु ऋषि को सौंपी क्योंकि वही देवताओं की परीक्षा देने का साहस कर सकते थे।

कहानी :क्यों मारा भृगु ऋषि ने भगवान विष्णु की छाती में लात
शैली :आध्यात्मिक कहानी
सूत्र :पुराण
मूल भाषा :हिंदी

क्यों मारा भृगु ऋषि ने भगवान विष्णु की छाती में लात

भृगु ऋषि भगवान ब्रह्मा के पास पहुंचे। लेकिन भगवान ब्रह्मा वीणा की धुन में लीन थे। उन्होंने भृगु ऋषि की तरफ ध्यान ही नहीं दिया। भृगु ऋषि की अगली मंजिल थी महादेव का दरबार, लेकिन उस वक्त भगवान शंकर भी मां पार्वती से बातचीत में खोए हुए थे और उनकी नजर भी भृगु ऋषि पर नहीं पड़ी।

ऋषि भृगु फिर नाराज होकर वहां से भी चले गए। अब बारी थी भगवान विष्णु की, जो उस वक्त आराम कर रहे थे। भृगु ऋषि ने वैकुंठ धाम में भगवान विष्णु को कई आवाजें दीं। लेकिन भगवान ने कोई जवाब नहीं दिया। गुस्से में आकर भृगु ऋषि ने भगवान विष्णु के सीने पर लात मार दी। इसके बाद भगवान विष्णु ने भृगु ऋषि को गुस्से में आग बबुला देखा तो उनका पैर पकड़ लिया और मालिश करते हुए पूछा कि कही आपको चोट तो नहीं लगी। यह देखकर भृगु ऋषि को अपना उत्तर मिल गया और उन्होंने यज्ञ का पुरोहित भगवान विष्णु को बना दिया।

जब माता लक्ष्मी ने छोड़ दिया वैकुंठ

भृगु ऋषि के भगवान विष्णु के सीने पर लात मारने पर माता लक्ष्मी नाराज हो गई थीं। माता चाहती थीं कि भगवान विष्णु भृगु ऋषि को दंड दें लेकिन विष्णु भगवान ने ऐसा करने से साफ इंकार कर दिया। जिसकी वजह से माता लक्ष्मी ने वैकुंठ छोड़ दिया और तपस्या करने के लिए धरती पर करवीपुर (जिसे अब महाराष्ट्र के कोलहापुर के नाम से जाना जाता है) आ गईं।

जब भगवान विष्णु ने छोड़ दिया था वैकुंठ

माता लक्ष्मी के वैकुंठ से चले जाने के बाद भगवान विष्णु भी उन्हें ढूंढने के लिए वैंकुठ छोड़कर धरती पर आ गए। उन्होंने माता को जंगलों और पहाड़ियों पर ढूंढा लेकिन माता लक्ष्मी कही नहीं मिलीं। बाद में भागवान विष्णु एक पहाड़ी पर रहने लगे जिसे आज वेंकटाद्री के नाम से जाना जाता है।

जब ब्रह्मा बने गाय और भगवान शिव बने बछड़ा

माता लक्ष्मी को ढूंढने के लिए भगवान विष्णु की मदद करने के लिए ब्रह्माजी और शिवजी ने गाय और बछड़े का रूप धारण कर धरती पर आ पहुंचे। यह गाय चोल वंश के राजा के पास थी। लेकिन एक रोज उस गाय ने दूध देना बंद कर दिया। पौराणिक कहानियों के मुताबिक वो गाय एक पहाड़ी पर जाकर अपना सारा दूध भगवान विष्णु को पिला देती थी।

अंतिम बात :

दोस्तों कमेंट के माध्यम से यह बताएं कि “क्यों मारा भृगु ऋषि ने भगवान विष्णु की छाती में लात” Shree Krishna Ramanand sagar वाला यह आर्टिकल आपको कैसा लगा | हमने पूरी कोशिष की हे आपको सही जानकारी मिल सके| आप सभी से निवेदन हे की अगर आपको हमारी पोस्ट के माध्यम से सही जानकारी मिले तो अपने जीवन में आवशयक बदलाव जरूर करे फिर भी अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके | 

हमे उम्मीद हे की आपको वाला यह आर्टिक्ल पसंद आया होगा | आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए आर्टिकल लाने के लिए प्रेरित करता है | ऐसी ही कहानी के बारेमे जानने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे धन्यवाद ! 🙏 जय श्रीकृष्ण 🙏