श्री कृष्ण ने किया श्रीधर को अपंग | कागासुर वध

1268
कागासुर वध - श्री कृष्ण ने किया श्रीधर को अपंग

कागासुर वध : पुतना की मृतु के बाद कंस को यक़ीन हो जाता है की नंदराय का पुत्र हाई देवकी का आठवाँ पुत्र है। कंस का सलाहकार चाणुर एक ब्राह्मण श्रीधर को लेकर आता है ताकि वो श्री कृष्ण को अपनी तंत्र विद्या से मार सके। 

धारावाहिक :श्रीकृष्ण रामानंद सागर कृत
कहानी :कागासुर वध
संगीत :रवींद्र जैन
निर्देशकरामानंद सागर
शैलीपौराणिक कथा
मूल प्रसारण18 जुलाई 1993 – 5 अक्टूबर 1997
मूल चैनल :दूरदर्शन
छायांकन :अजित नाइक
निर्माता :रामानंद सागर, आनंद सागर, मोती सागर
संपादक :सुभाष सहगल
मूल भाषा :हिंदी (Hindi)

श्री कृष्ण ने किया श्रीधर को अपंग | कागासुर वध

वह ब्राह्मण श्रीधर अपनी तंत्र विद्या से एक दैत्या को अहवान करता है। अगले दिन वह ब्राह्मण श्रीधर गकुल की ओर निकल पड़ता है और वह पहुँचकर भिक्षा के बहाने नंद के घर में आ जाता है जहां यशोदा उसे भोजन के लिए अपने घर में बैठा लेती है। 

जैसी ही यशोदा और रोहिनी भोजन लेने जाती है तो वह ब्राह्मण अपनी शक्ति से प्रकट हुई दैत्या को श्री कृष्ण की हत्या करने के लिए अहवान करता है लेकिन श्री कृष्णा उस दैत्या को मार देते हैं और उस पाखंडी ब्राह्मण को अपंग बना देते हैं। रोहिनी और यशोदा उसे देखती है तो उन्हें लगता है की वह चोर है तो वो चोर चोर चिल्लाने लगती हैं तो गोकुल वासी उसे पकड़ कर पिटने लगते हैं। 

श्रीधर को किया अपंग – श्री कृष्ण रामानंद सगर

नंदराय जी उसे लोगों से बचा कर आज़ाद कर देते हैं। जब वह ब्राह्मण वापस अपने घर आता है तो उसके गुरु शुक्राचार्य आकर उसे उसकी गलती का अहसास करते हैं। नारद जी उस ब्राह्मण के पास आकर उन्हें अपना जीवन सुधारने के लिए हिमालय पर जाकर श्री हरी का जाप करने को कहते हैं। 

श्री कृष्ण ने किया श्रीधर को अपंग : YouTube Video

कागासुर वध 

कंस को जब ब्राह्मण श्रीधर की हालत का पता चलता है तो वह श्री कृष्ण की हत्या हेतु कगासुर को भेजता है। श्री कृष्ण के पास जब कागासुर पहुँचता है तो श्री कृष्ण उसे भी मौत के घाट उतार देते है और उसका शव कंस के सामने जाकर गिरता है। कंस कागासुर की मृत्यु के निराश हो जाता है तभी कंस का मित्र उत्करच वहाँ पहुँच जाता है।

श्रीकृष्णा, रामानंद सागर द्वारा निर्देशित एक भारतीय टेलीविजन धारावाहिक है। मूल रूप से इस श्रृंखला का दूरदर्शन पर साप्ताहिक प्रसारण किया जाता था।

  • Produced – Ramanand Sagar / Subhash Sagar / Pren Sagar
  • निर्माता – रामानन्द सागर / सुभाष सागर / प्रेम सागर
  • Directed – Ramanand Sagar / Aanand Sagar / Moti Sagar
  • निर्देशक – रामानन्द सागर / आनंद सागर / मोती सागर
  • Chief Asst. Director – Yogee Yogindar
  • मुख्य सहायक निर्देशक – योगी योगिंदर
  • Asst. Directors – Rajendra Shukla / Sridhar Jetty / Jyoti Sagar
  • सहायक निर्देशक – राजेंद्र शुक्ला / सरिधर जेटी / ज्योति सागर
  • Screenplay & Dialogues – Ramanand Sagar
  • पटकथा और संवाद – संगीत – रामानन्द सागर
  • Camera – Avinash Satoskar
  • कैमरा – अविनाश सतोसकर
  • Music – Ravindra Jain
  • संगीत – रविंद्र जैन
  • Lyrics – Ravindra Jain
  • गीत – रविंद्र जैन

अंतिम बात :

दोस्तों कमेंट के माध्यम से यह बताएं कि “कागासुर वध की कहानी” वाला यह आर्टिकल आपको कैसा लगा | हमने  पूरी कोशिष की हे आपको सही जानकारी मिल सके| आप सभी से निवेदन हे की अगर आपको हमारी पोस्ट के माध्यम से सही जानकारी मिले तो अपने जीवन में आवशयक बदलाव जरूर करे फिर भी अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके | 

हमे उम्मीद हे की आपको श्री कृष्ण ने किया श्रीधर को अपंग वाला यह आर्टिक्ल पसंद आया होगा | आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए आर्टिकल लाने के लिए प्रेरित करता है | ऐसी ही कहानी के बारेमे जानने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे धन्यवाद ! 🙏