Hiranyakashipu Vadh by Lord Vishnu – हिरण्यकश्यप वध

577
Hiranyakashipu Vadh by Lord Vishnu - हिरण्यकश्यप वध

Hiranyakashipu Vadh by Lord Vishnu : हिरण्यकश्यप अपने गुरु के पास जाता है और उनसे देवताओं से युध करने के लिए शक्ति पाने का रास्ता पूछता है तो उसे उसका गुरु तपस्या करने की आज्ञा देता है। 

धारावाहिक :श्रीकृष्ण रामानंद सागर कृत
कहानी :हिरण्यकश्यप वध
संगीत : रवींद्र जैन
निर्देशक :रामानंद सागर
शैली :पौराणिक कथा
मूल प्रसारण :18 जुलाई 1993 – 5 अक्टूबर 1997
मूल चैनल :दूरदर्शन
छायांकन :अजित नाइक
निर्माता :रामानंद सागर, आनंद सागर, मोती सागर
संपादक :सुभाष सहगल
मूल भाषा :हिंदी (Hindi)

हिरण्यकश्यप ब्रह्मा जी की घोर तपस्या करता है और ब्रह्मा जी उससे प्रसन्न होकर उसे वरदान देते हैं। हिरण्यकश्यप ब्रह्मा जी से वरदान के रूप में वरदान माँगता है की उसे ना कोई मनुष्य ना पशु ना राक्षस मार सके, ना दिन में ना रात में मार सके, ना ही घर के अंदर ना ही घर के बाहर, ना ही अस्त्र से और ना ही शास्त्र से मार सके।

हिरण्यकश्यप वध – Hiranyakashipu Vadh by Lord Vishnu

ब्रह्मा जी उसे वरदान दे देते हैं। हिरण्यकश्यप स्वर्ग पर हमला कर क़ब्ज़ा कर लेता है, वह सभी पृथ्वी वसियों को और साधु संतो को खुद को भगवान मानने के लिए प्रताड़ित करने लगा। हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रलहाद ही एक ऐसा था जो विष्णु भगत था और 5 वर्ष की आयु से ही विष्णु भगवान की पूजा में लीन हो गया था जब हिरण्यकश्यप को पता चला तो उसने उसे बहुत समझाया पर जब वह उसे नहीं समझा पाया तो उसने उसे दंडित करना चाहा 

हिरण्यकश्यप का भगवान नरसिंह द्वारा वध – प्रलहाद की विष्णु भक्ति

परंतु विष्णु भगवान उसकी रक्षा करते थे। जब हिरण्यकश्यप प्रलहाद को मारने में असमर्थ हो रहा था तो उसकी बहन होलिका हिरण्यकश्यप को प्रलहाद के साथ आग में बैठने की योजना बताती है क्योंकि वह अग्नि से जल नहीं सकती थी क्योंकि ब्रह्मा जी का वरदान था। लेकिन विष्णु भगवान का नाम जपते हुए प्रलहाद को अग्नि कुछ नहीं करती लेकिन होलकी जलकर ख़ाक हो जाती है।

श्री कृष्ण लीला | नरसिंह अवतार कथा

Hiranyakashipu Vadh YouTube Video

  • Produced – Ramanand Sagar / Subhash Sagar / Pren Sagar
  • निर्माता – रामानन्द सागर / सुभाष सागर / प्रेम सागर
  • Directed – Ramanand Sagar / Aanand Sagar / Moti Sagar
  • निर्देशक – रामानन्द सागर / आनंद सागर / मोती सागर
  • Chief Asst. Director – Yogee Yogindar
  • मुख्य सहायक निर्देशक – योगी योगिंदर
  • Asst. Directors – Rajendra Shukla / Sridhar Jetty / Jyoti Sagar
  • सहायक निर्देशक – राजेंद्र शुक्ला / सरिधर जेटी / ज्योति सागर
  • Screenplay & Dialogues – Ramanand Sagar
  • पटकथा और संवाद – संगीत – रामानन्द सागर
  • Camera – Avinash Satoskar
  • कैमरा – अविनाश सतोसकर
  • Music – Ravindra Jain
  • संगीत – रविंद्र जैन
  • Lyrics – Ravindra Jain

अंतिम बात :

दोस्तों कमेंट के माध्यम से यह बताएं कि “हिरण्यकश्यप वध की कहानी” वाला यह आर्टिकल आपको कैसा लगा | हमने  पूरी कोशिष की हे आपको सही जानकारी मिल सके| आप सभी से निवेदन हे की अगर आपको हमारी पोस्ट के माध्यम से सही जानकारी मिले तो अपने जीवन में आवशयक बदलाव जरूर करे फिर भी अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके | 

हमे उम्मीद हे की आपको Hiranyakashipu Vadh by Lord Vishnu वाला यह आर्टिक्ल पसंद आया होगा | आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए आर्टिकल लाने के लिए प्रेरित करता है | ऐसी ही कहानी के बारेमे जानने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे धन्यवाद ! 🙏