Breaking

शुक्रवार, 30 अप्रैल 2021

श्री कृष्णा डायलॉग | Shree Krishna Dialogue 28

Shree Krishna Dialogue Status 28। श्री कृष्ण डायलॉग l श्री कृष्ण

"मैं ज्ञान और बुद्धि दोनों से ही परे हूँ
मुझे तो केवल भक्ति और भक्ति से उत्पन्न होने वाले विश्वास के द्वारा ही
देखा जा सकता है, पाया जा सकता है
माता को विश्वास है पिताश्री की आँखों के आगे
बुद्धि के तर्क के पर्दे हैं इसीलिए
बालक को जो आनंद माता की गोद में आता है
वो दिव्य आनंद संसार की किसी और गोद में नहीं मिलता।"

Krishna Dialogue 28
"main gyaan aur buddhi donon se hee pare hoon
mujhe to keval bhakti aur bhakti se utpann hone vaale vishvaas ke dvaara hee
dekha ja sakata hai, paaya ja sakata hai
maata ko vishvaas hai pitaashree kee aankhon ke aage
buddhi ke tark ke parde hain iseelie
baalak ko jo aanand maata kee god mein aata hai
vo divy aanand sansaar kee kisee aur god mein nahin milata."

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें