Breaking

बुधवार, 31 मार्च 2021

श्री कृष्णा डायलॉग | Shree Krishna Dialogue 22

Shree Krishna Dialogue Status 22। श्री कृष्ण डायलॉग l श्री कृष्ण


"मैं अपना भी हूँ और निकट भी
परंतु मैं दूर भी इतना हूँ के मैं किसी का नहीं
वास्तव में यही ज्ञान का आधार है की यहाँ कोई किसी का नहीं
ना कोई किसी का पिता है ना कोई किसी का पुत्र
ये रिश्ते नाते ये ममता ये मोह ये बंधन ये शत्रुता के बंधन
ये सब माया का दृष्टि भ्रम हैं अपने पूर्व जन्मों के कर्मों के अनुसार हर जनम में
नये नये रिश्ते नये नये नाते बनते और बिगड़ते रहते हैं
कोई रिश्ता कोई नाता सदा के लिए नहीं रहता
सदा केवल रहता है सत्य और भगवान।"

"main apana bhee hoon aur nikat bhee 
parantu main door bhee itana hoon ke main kisee ka nahin
 vaastav mein yahee gyaan ka aadhaar hai kee yahaan koee kisee ka nahin
 na koee kisee ka pita hai na koee kisee ka putr
 ye rishte naate ye mamata ye moh ye bandhan ye shatruta ke bandhan
 ye sab maaya ka drshti bhram hain apane poorv janmon ke karmon ke anusaar har janam mein
 naye naye rishte naye naye naate banate aur bigadate rahate hain
 koee rishta koee naata sada ke lie nahin rahata
 sada keval rahata hai saty aur bhagavaan."


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें