Breaking

गुरुवार, 28 फ़रवरी 2019

Law of karma | क्या कर्मो का फल मिलता है ?

क्या कर्मो का फल मिलता है ? - Law of karma 


दोस्तों देर सवेर कर्म का फल कर्ता को भोगना ही पड़ता है। चाहे वो कोई मनुष्य हो या प्राणी अतः कर्म करने में हमेशा सावधान रहना चाहिए। कर्म का विधान अटल हे जो जैसा कर्म कर्ता हे उनको वैसा ही फल मिलता हे इस बात को समझने के लिए एक छोटीसी कहानी से सीख लेंगे

एक व्यक्ति सुबह सुबह ऑफिस जा ने के लिए घर से निकले और कार का दरवाजा खोल के जैसे ही कार में बैठने वाला था की उनका पेर निचे बैठे कुत्ते की पूछ पर पड़ता हे और पूछ पर पेर पड़ने से कुत्ता उस आदमी को काट खाता है।

Law of karma


गुस्से में आकर वह आदमी आसपास पड़े कुछ पत्थर कुत्ते की ओर फेंकता हे लेकिन किस्मत से एक भी पत्थर उस कुत्ते को नहीं लगता हे और कुत्ता वहा से भाग जाता हे

वह व्यक्ति डॉक्टर से अपना इलाज करवाकर ऑफिस जाते हे और कुत्ते पर आया उनका सारा गुस्सा उन बिचारे कर्मचारियों पर निकालता हे जिनकी कोई गलती ही नहीं थी

कर्मचारी अपना गुस्सा उनके निचे काम करने वालों पर निकालता हे वैसे ही क्रम चलता जाता हे और अंत में ये गुस्सा पियून तक पोहचता हे

जो मन ही मन बड़बड़ाते हुए घर चला जाता है। और हमेशा की तरह उनकी पत्नी पूछती है “आज फिर देर हो गई आने में………….” अब वो पयूं ग़ुस्सेमे आकर कहता है “मै क्या ऑफिस खेलने जाता हूँ ? काम करता हूँ, दिमाग मत खराब करो मेरा, पहले से ही पका हुआ हूँ,

अब गुस्सा होने की बारी उनकी पत्नी की थी,वह पति का गुस्सा अपने बच्चे पर उतारते हुए उसे तीन चार थप्पड़ मार देती हे अब बिचारा बच्चा जाए तो जाये कहाँ,

बिना कारण अपनी माँ की मार खाकर वह रोते रोते बाहर की और जाता हे , एक पत्थर उठाता है और सामने जा रहे कुत्ते को पूरी ताकत से मारता है। कुत्ता फिर बिलबिलाता है…..


दोस्तों ये वही सुबह वाला कुत्ता था !!! जिसने सुबह उस व्यक्ति को कांत खाया था

दोस्तों उस कुत्ते को उसके काटे के बदले ये पत्थर तो पड़ना ही था केवल समय का फेर था और सेठ जी की जगह इस बच्चे से पड़ना था !!! उसका कार्मिक चक्र तो पूरा होना ही था ना !!!

इसलिए मित्र यदि कोई आपको काट खाये, चोट पहुंचाए और आप उसका कुछ ना कर पाएँ, तो निश्चिंत रहें, उसे चोट तो लग के ही रहेगी, बिलकुल लगेगी, जो आपको चोट पहुंचाएगा,

उस का तो चोटिल होना निश्चित ही है,कब होगा किसके हाथों होगा ये केवल ऊपरवाला जानता है पर होगा ज़रूर और यही तो सृष्टी का नियम है !!!
चाहे कोई देखे या न देखे फिर भी कोई है जो हर समय देख रहा है। जिसके पास हमारे पाप-पुण्य सभी कर्मों का लेखा-जोखा है। इस दुनिया की सरकार से शायद कोई बच भी जाय किन्तु उपरवाले सरकार से आज तक न कोई बचा है और न बच पायेगा।किसी प्रकार की सिफारिश अथवा रिश्वत वहाँ काम नहीं आयेगी। उससे बचने का कोई मार्ग नहीं है। इसीलिए हर समय उचित कर्म करना अनिवार्य हे 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें