Breaking

गुरुवार, 22 फ़रवरी 2018

होलिका दहन | Holi | Holika Dahan Story

होलिका दहन कहानी - Holika Dahan Story in Hindi | Holi 2022

भारत त्योहारों का देश है और होली एक ऐसा पर्व है जिसे बेहद ही उत्साह के साथ मनाया जाता है. इस बार 18 मार्च 2022 को होली का त्योहार मनाया जाएगा और 17 मार्च को होलिका दहन किया जाएगा. होलिका दहन के दिन पवित्र अग्नि जलाई जाती है जो बुराई पर अच्छाई की जीत का संकेत है. होली वसंत ऋतु के आने और सर्दियों के जाने का प्रतीक है. यह शुभ दिन फाल्गुन महीने में पूर्णिमा से पहले पड़ता है
Holi | Holika Dahan Story


होलाष्टक का संबंध भगवान विष्णु के भक्त प्रहलाद व उनके पिता अत्याचारी हिरण्यकश्यप की कथा से है. स्कंद पुराण के अनुसार राक्षसी प्रवृत्ति के राजा हिरण्यकश्यप भगवान विष्णु से ईर्ष्या व जलन की भावना रखता था. उसके राज्य में जो कोई भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना करता था उसे मौत की सजा सुनाई जाती थी. राजा के फरमान से डरकर उसके राज्य में कोई भी भगवान विष्णु की पूजा नहीं करता था.

हिरण्यकश्यप और प्रहलाद की कहानी 

कथा प्रसंग के अनुसार राजा हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रहलाद भगवान विष्णु का भक्त था. अपने पुत्र प्रहलाद की विष्णु भक्ति के बारे में जब राजा को पता चला तो उसने प्रहलाद को समझाया मगर प्रहलाद ने भगवान विष्णु की भक्ति करनी नहीं छोड़ी. इससे क्रोधित होकर राजा ने अपने पुत्र को मृत्युदंड की सजा सुनाई.

राजा के आदेश पर सैनिकों ने भक्त प्रहलाद को अनेक यातनाएं दीं. उसे मरने के लिए जंगली जानवरों के बीच छोड़ा, नदी में डुबो दिया, ऊंचे पर्वत से भी फेंका गया. हर सजा पर प्रहलाद भगवान की कृपा से बच गया. अंत में राजा ने अपनी बहन होलिका की गोद में बिठाकर प्रहलाद को जिंदा जला डालने का हुक्म दिया.

भक्त प्रहलाद और होलिका की कहानी - होलिका के गोद में प्रहलाद

राजा की बहन होलिका को वरदान था कि वह अग्नि में भी भस्म नहीं होगी. प्रभु कृपा से प्रहलाद तो बच गया मगर होलिका जल गई. उस दिन से होलिका दहन की परंपरा शुरू हुई.

होलिका दहन कहानी - Holika Dahan Story in hindi

प्रहलाद की जान बच गई और उसकी जगह होलिका उस आग में जल गई. यही कारण है होली का त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है.

होलिका दहन से हमें सीख मिलती है,कि जब भी हम दूसरों को जिस आग में जलाने की कोशिश करते है अक्सर
उसी आग में हम स्वयं जल जाते है 

होलिका दहन हमे बताती है कि बुराई कितनी भी शक्तिशाली हो लेकिन वक्त की आग उसे जला देती है
सत्य कितना भी कमजोर हो लेकिन उसका कुछ भी बुरा नहीं होता है।

महादेव शिव शंकर ने कामदेव को किया था भस्म

एक कथा यह भी है कि भगवान शिव की तपस्या को भंग करने के कारण शिव ने कामदेव को फाल्गुन की अष्टमी में भस्म कर दिया था। कामदेव की पत्नी रति ने उस समय क्षमा याचना की और शिव जी ने कामदेव को पुनः जीवित करने का आश्वासन दिया। इसी खुशी में लोग रंग खेलते हैं।

श्रीकृष्ण और पूतना की कहानी

होली और श्रीकृष्ण से गहरा रिश्ता है। ज इस त्योहार को राधा-कृष्ण के प्रेम के प्रतीक के तौर पर भी देखा जाता है। सनातन धर्म पौराणिक कथा के अनुसार जब राजा कंस को श्रीकृष्ण के गोकुल में होने का पता चला तो मामा कंस ने पूतना राक्षसी को गोकुल में जन्म लेने वाले हर बच्चे को मारने के लिए भेज दिया  पूतना स्तनपान के बहाने श्रीकृष्ण को विषपान कराना चाहती थी वही भगवान् श्रीकृष्ण उसकी सच्चाई जानते थे  उन्होंने दुग्धपान करते समय ही पूतना राक्षसी का वध कर दिया। ऐसा भी कहा जाता है कि उसी दिन से होली पर्व त्यौहार मनाने की मान्यता शुरू हुई।

होलिका कथा - प्रहलाद होलिका कथा - Story of Prahlad and Holika | नरसिंह अवतार


होलिका और प्रहलाद की कहानी (Holika Prahalad story) आपको अच्छी लगी हो तो कमेंट बॉक्स में ॐ नमो भगवते वासुदेवाय जरूर लिखे 

holika dahan quotes in hindi - होलिका दहन कोट्स स्टेटस 


होलिका साल में एक बार जलती है,
इंसान हर दिन जल रहा है,
अपने अंदर के प्रह्लाद को बचाना होगा,
खुद को सत्य के मार्ग पर चलाना होगा।

हे प्रभु तुम रहना सदा मेरे मन में, 
दूर रहे बुराइया सदा पुरे जन में, 
होलिका दहन में यही कामना मेरी, 
सुख शांति हो मेरे देश के कण कण में।
Happy Holi

होलिका दहन के साथ ही,
आपके दुखों का नाश हो
दूर हो दुख दर्द और दरिद्रता
सच्चाई से युक्त संसार हो।
होलिका दहन की शुभकामनाएं!

आपके जीवन के सारे कष्ट होलिका दहन
में जलकर राख हो जाए और आपके जीवन
में खुशियाँ ही खुशियाँ हो.
होलिका दहन की हार्दिक शुभकामनाएं

होली की पवित्र अग्नि में,
निराशा, गरीबी, आलस्य का दहन हो
तथा सभी के जीवन में खुशहाली आए,
सुख, शांति और स्वास्थ्य रहे.
होली की हार्दिक शुभेच्छा!

अधर्म पर धर्म की जीत
अन्याय पर न्याय की विजय
बुराई पर अच्छाई की जय जय कार,
एक साथ मनाये होलिका दहन का त्यौहार।


होलिका के साथ सारे दुख-दर्द जला दो,
नई खुशी और नई उमंग के साथ, रंगों का पर्व मना लो…
Happy Holi 2022

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें