Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Lyrics – विधना तेरे लेख किसी की

3782
Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Lyrics - विधना तेरे लेख किसी की

Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Lyrics in Hindi from The Ramanand Sagar’s television show Ramayan that was the first broadcast in 1987 on DD National TV.Ramayan Song Lyrics in Hindi and English from the TV show Ramayan (1987), sung by Ravindra Jain Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Lyrics song music created by Ravindra Jain.

Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Song detail:

धारावाहिक :रामायण रामानंद सागर कृत
संगीत : रवींद्र जैन
स्वर :सतीश डेरा और देविका पंडित
निर्देशक :रामानंद सागर
शैली :पौराणिक कथा
मूल प्रसारण :२५ जनवरी १९८७ – ३१ जुलाई १९८ 
मूल चैनल :दूरदर्शन
छायांकन :अजित नाइक
निर्माता :रामानंद सागर, आनंद सागर, मोती सागर
संपादक :सुभाष सहगल
मूल भाषा :हिंदी (Hindi)

Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Lyrics Ramayan – विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं लिरिक्स

दोहा

व्याकुल दशरथ के लगे,रथ के पथ पर नैन।
रथ विहीन वन वन फिरें,राम सिया दिन रेन।।

विधना तेरे लेख किसी की, समझ न आते हैं ।
जन जन के प्रिय, राम लखन सिय, वन को जाते हैं ।।
जन जन के प्रिय, राम लखन सिय, वन को जाते हैं ।।

एक राजा के राज दुलारे , वन वन फिरते मारे मारे ।
होनी होकर रहे कर्म गति, टरे नहीं काहूँ के टारे ।।
सबके कष्ट मिटाने वाले, कष्ट उठाते हैं ।
जन जन के प्रिय राम लखन सिय, वन को जाते हैं ।।

जन जन के प्रिय, राम लखन सिय, वन को जाते हैं ।।

फूलों से चरणों में काँटे, विधि ने क्यों दु:ख दीन्हे ऐसे ।
पग से बहे लहु की धारा, हरि चरणों से गंगा जैसे ।।
सहज भाव से संकट सहते, और मुस्काते हैं ।
जन जन प्रिय,राम लखन सिय, वन को जाते हैं ।।

जन जन के प्रिय, राम लखन सिय, वन को जाते हैं ।।

पत्ता पत्ता, तिनका तिनका, जोड़ते जाते हैं ।
महलों के वासी जंगल में, कुटि बनाते हैं ।।
महलों के वासी जंगल में, कुटि बनाते हैं ।।

राजमहल में पाया जीवन, फूलों में लालन पालन ।
राजमहल के त्याग सभी सुख, त्याग अयोध्या त्याग सिंहासन ।।
कर्म निष्ठ हो अपना अपना, धर्म निभाते हैं ।
महलों के वासी जंगल में, कुटि बनाते हैं ।।

महलों के वासी जंगल में, कुटि बनाते हैं ।।

कहते हैं देवों ने आकर, भील किरात का भेष बनाकर ।
पर्णकुटी रहने को प्रभु के, रखदी हाथों हाथ सजाकर ।।
सिया राम की सेवा करके, पुण्य कमाते हैं ।
महलों के वासी जंगल में, कुटि बनाते हैं ।।

महलों के वासी जंगल में, कुटि बनाते हैं ।।

विधना तेरे लेख किसी की, समझ न आते हैं ।
जन जन के प्रिय, राम लखन सिय, वन को जाते हैं ।।

सबके कष्ट मिटाने वाले, कष्ट उठाते हैं ।
जन जन के प्रिय, राम लखन सिय, वन को जाते हैं ।।

।। राम राम ।।

Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Lyrics – विधना तेरे लेख किसी की

Vidhana Tere Lekh Kisee Kee, Samajh Na Aate Hain .
Jan Jan Ke Priy, Raam Lakhan Siy, Van Ko Jaate Hain ..
Jan Jan Ke Priy, Raam Lakhan Siy, Van Ko Jaate Hain ..

Ek Raaja Ke Raaj Dulaare , Van Van Phirate Maare Maare .
Honee Hokar Rahe Karm Gati, Tare Nahin Kaahoon Ke Taare ..
Sabake Kasht Mitaane Vaale, Kasht Uthaate Hain .
Jan Jan Ke Priy Raam Lakhan Siy, Van Ko Jaate Hain ..
Jan Jan Ke Priy, Raam Lakhan Siy, Van Ko Jaate Hain ..

Phoolon Se Charanon Mein Kaante,Vidhi Ne Kyon Du:Kh Deenhe Aise .
Pag Se Bahe Lahu Kee Dhaara, Hari Charanon Se Ganga Jaise ..
Sahaj Bhaav Se Sankat Sahate, Aur Muskaate Hain .
Jan Jan Priy,Raam Lakhan Siy, Van Ko Jaate Hain ..
Jan Jan Ke Priy, Raam Lakhan Siy, Van Ko Jaate Hain ..

Patta Patta, Tinaka Tinaka, Jodate Jaate Hain .
Mahalon Ke Vaasee Jangal Mein, Kuti Banaate Hain ..
Mahalon Ke Vaasee Jangal Mein, Kuti Banaate Hain ..
Raajamahal Mein Paaya Jeevan, Phoolon Mein Laalan Paalan .

Raajamahal Ke Tyaag Sabhee Sukh,Tyaag Ayodhya Tyaag Sinhaasan ..
Karm Nishth Ho Apana Apana, Dharm Nibhaate Hain .

Mahalon Ke Vaasee Jangal Mein, Kuti Banaate Hain ..
Mahalon Ke Vaasee Jangal Mein, Kuti Banaate Hain ..
Kahate Hain Devon Ne Aakar, Bheel Kiraat Ka Bhesh Banaakar .

Parnakutee Rahane Ko Prabhu Ke, Rakhadee Haathon Haath Sajaakar ..
Siya Raam Kee Seva Karake, Puny Kamaate Hain .

Mahalon Ke Vaasee Jangal Mein, Kuti Banaate Hain ..
Mahalon Ke Vaasee Jangal Mein, Kuti Banaate Hain ..
Vidhana Tere Lekh Kisee Kee, Samajh Na Aate Hain .
Jan Jan Ke Priy, Raam Lakhan Siy, Van Ko Jaate Hain ..
Sabake Kasht Mitaane Vaale, Kasht Uthaate Hain .
Jan Jan Ke Priy, Raam Lakhan Siy, Van Ko Jaate Hain .. ..

Raam Raam ..

विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं

जन जन के प्रिये राम लखन सिया वन को जाते हैं | Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Lyrics

जब निषाद राज से अंतिम विदा लेकेर श्री राम अपने भाई लक्ष्मण और पत्नी माता सीता को साथ लेकर वन की और निकल पड़ते हैं तो ये गीत विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं लिरिक्स उनकी कहनी ब्यान करता है।

Ramayana was Written, Directed, Created by Ramanand Sagar. The Serial is based on Valmiki’s Ramayan and Tulsidas’ Ramcharitmanas.Ramayana Serial was filmed with 78 episodes in total.This Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain track is taken from Ramanand Sagar’s Ramayan TV series

Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Song Info

  • Singers: Ravindra Jain & Chorus
  • Serial: Ramayan Ramanand Sagar
  • Lyrics By: Ravindra Jain
  • Label: DD National TV
  • TV Show: Ramayan (1987)
  • Music Director: Ravindra Jain
  • Genres: Bhajan, Devotion, Religious
  • Director: Ramanand Sagar
  • Released on: 25th January, 1987
  • Starring: Arun Govil, Deepika Chikhalia, Sunil Lahri, Sanjay Jog, Arvind Trivedi, Dara Singh, Vijay Arora, Sameer Rajda, Mulraj Rajda, Lalita Pawar

FAQs For Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain

  1. Who is the singer of Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Song ?

    Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Song is sung by Satish Dera, Ravindra Jain and Devika Pandit

  2. Who is the music director of Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain song?

    Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Song is Composed by Ravindra Jain

  3. Which Serial is the song Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain from?

    Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain is a hindi song from the serial Ramayan Ramanand sagar

  4. Who is the Lyrics Written of Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Song ?

    Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain song lyrics written by Ravindra Jain

  5. When was Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Song released?

    Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain is a hindi song released in Year 1987

  6. What is the duration of Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Song ?

    The duration of the song Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain is 3:40 minutes.

अंतिम बात :

इस गाने को भारत देश में बहुत ही ज्यादा सुना गया। आज भी लोग रामायण के सारे गाने को बहुत पसंद करते है। मैंने अपनी तरफ से पूरी कोसिस की है आपको इस आर्टिक्ल से सही जानकारी मिले सके हमे उम्मीद हे कि श्रीराम भक्तो को रामायण का विधना तेरे लेख किसी की समझ ना आते हैं लिरिक्स पसंद आया होगा

दोस्त! अगर आपको “Vidhna Tere Lekh Kisi Ki Samajh Na Aate Hain Lyrics” Ramayan Song Lyrics वाला यह आर्टिकल पसंद है तो कृपया इसे अपने दोस्तों को सोशल मीडिया जैसे कि Facebook,Whatsapp, twitter इत्यादि पर शेयर करना न भूलें। आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए गाने के बोल लाने के लिए प्रेरित करता है

अगर आप अपने किसी पसंदीदा गाने के बोल चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर हमें बेझिझक बताएं हम आपकी ख्वाइस पूरी करने की कोशिष करेंगे धन्यवाद!
🙏 जय श्रीराम 🙏