कालभैरवाष्टकम् – Kalabhairava Ashtakam Lyrics with Meaning

6361
Kalabhairava Ashtakam Lyrics with Meaning

भगवान भैरव शिव के स्वरूप हैं। भगवान भैरव शिव कलियुग की बाधाओं का शीघ्र निवारण करने वाले देवता माने जाते हैं। कालभैरवाष्टकम् श्रीमद् शंकराचार्य द्वारा रचित स्तोत्र है। इसका प्रवाह शिवताण्डव की तरह ही है।

संतान की दीर्घायु हो या गृहस्वामी का स्वास्थ्य भगवान भैरव स्मरण  कालभैरवाष्टकम् – Kalabhairava Ashtakam Lyrics और पूजन मात्र से उनके कष्टों को दूर कर देते हैं।

Kaalbhairav Ashtakam Lyrics Detail (कालभैरवाष्टकम् लिरिक्स)

TV Show :Devo Ke Dev Mahadev (2011)
Music Composer :Sajan Rajan Mishra
Genre :Religious
Director :Nikhil Sinha, Manish Singh
Music Director(s):Sandeep Mukherjee, Karthik Raja, Bawra Bros, Sajan Mishra, Rajan Mishra
Cinematography :Deepak Garg and Amit Malvia
Original network :Life OK
Staring :Mohit Raina, Pooja Bose, Sonarika Bhadoria, Mouni Roy, Rushiraj Pawar, Kumar Hegde
Producer :Anirudh Pathak,Nikhil Sinha
Release Date :18th December 2011

Kalabhairava Ashtakam Lyrics in Hindi with Meaning – कालभैरवाष्टकम् लिरिक्स

ॐ नम: शिवाय
Om Namah Shivaya

देवराजसेव्यमानपावनांघ्रिपङ्कजं
व्यालयज्ञसूत्रमिन्दुशेखरं कृपाकरम्
नारदादियोगिवृन्दवन्दितं दिगंबरं
काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे

अर्थ : जिनके पवित्र चरण-कमल की सेवा देवराज इन्द्र सदा करते रहते हैं तथा जिन्होंने शिरोभूषण के रूप में चन्द्रमा और सर्प का यज्ञोपवीत धारण किया है। जो दिगम्बर-वेश में हैं एवं नारद आदि योगियों का समूह जिनकी वन्दना करता रहता है, ऐसे काशी नगरीके स्वामी कृपालु कालभैरव की मैं आराधना करता हूँ

भानुकोटिभास्वरं भवाब्धितारकं परं
नीलकण्ठमीप्सितार्थदायकं त्रिलोचनम्
कालकालमंबुजाक्षमक्षशूलमक्षरं
काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे

अर्थ : जो सूर्य के समान प्रकाश देने वाले हैं, परमेश्वर भवसागर से जो तारने वाले हैं, जिनका कंठ नीला है और सांसारिक समृद्धियां प्रदान करते हैं और जिनके नेत्र तीन हैं। जो काल के भी काल हैं और जिनका त्रिशूल तीन लोकों को धारण करता है और जो अविनाशी हैं उस काशी के स्वामी कालभैरव को मैं भजता हूं।

शूलटङ्कपाशदण्डपाणिमादिकारणं
श्यामकायमादिदेवमक्षरं निरामयम्
भीमविक्रमं प्रभुं विचित्रताण्डवप्रियं
काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे

अर्थ : जो अपने दोनों हाथों में त्रिशूल, फन्दा, कुल्हाड़ी और दंड लिया करते हैं, जो सृष्टि के सृजन के कारण हैं और सांवले रंग के हैं और आदिदेव सांसारिक रोगों से परे हैं, जिन्हें विचित्र तांडव पसंद है उस काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।

भुक्तिमुक्तिदायकं प्रशस्तचारुविग्रहं
भक्तवत्सलं स्थितं समस्तलोकविग्रहम्
विनिक्वणन्मनोज्ञहेमकिङ्किणीलसत्कटिं
काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे

अर्थ : जो मुक्ति प्रदान करते हैं, शुभ, आनंद दायक रुप धारण करते हैं, जो भक्तों से सदा प्रेम करते हैं और तीने लोकों में स्थित हैं। जो अपनी कमर पर घंटियां धारण करते हैं उन काशी के भगवान कालभैरव को मैं भजता हूं।

धर्मसेतुपालकं त्वधर्ममार्गनाशकं
कर्मपाशमोचकं सुशर्मदायकं विभुम्
स्वर्णवर्णशेषपाशशोभिताङ्गमण्डलं
काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे

अर्थ : जो सभी धर्मों की रक्षा करते हैं और अधर्म के मार्ग का नाश करते हैं, कर्मों के जाल से मुक्त करते हैं। जो स्वर्ण रंग के सांप से सुशोभित हैं उस काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।

रत्नपादुकाप्रभाभिरामपादयुग्मकं
नित्यमद्वितीयमिष्टदैवतं निरंजनम्
मृत्युदर्पनाशनं करालदंष्ट्रमोक्षणं
काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे

अर्थ : जिनके दोनों पैर रत्न जड़ित हैं, जो इष्ट देवता और परम पवित्र हैं। जो अपने दांतों से मौत का भय दूर करते हैं उन काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।

अट्टहासभिन्नपद्मजाण्डकोशसंततिं
दृष्टिपातनष्टपापजालमुग्रशासनम्
अष्टसिद्धिदायकं कपालमालिकाधरं
काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे

अर्थ : जिनकी हंसी की ध्वनि से कमल से उत्पन्न ब्रह्मा की सभी कृतियों की गति रुक जाती है, जिसकी दृष्टि पड़ने से पापों का नाश हो जाता है, जो अष्ट सिद्धियां प्रदान करते हैं और मुंड़ों की माला धारण करते हैं उस काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।

भूतसंघनायकं विशालकीर्तिदायकं
काशिवासलोकपुण्यपापशोधकं विभुम्
नीतिमार्गकोविदं पुरातनं जगत्पतिं
काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे

अर्थ : जो भूत, प्रेतों के राजा हैं और विशाल कीर्ति प्रदान करने वाले हैं, जो सत्य और नीति का रास्ता दिखाते हैं, जो जगतपति हैं उस काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।

कालभैरवाष्टकं पठंति ये मनोहरं
ज्ञानमुक्तिसाधनं विचित्रपुण्यवर्धनम्
शोकमोहदैन्यलोभकोपतापनाशनं
प्रयान्ति कालभैरवांघ्रिसन्निधिं नरा ध्रुवम्

अर्थ : जो काल भैरव का पाठ करते हैं, वो ज्ञान और मुक्ति को प्राप्त करते हैं। पुण्य पाते हैं और नर मृत्यु के पश्चात शोक, ताप, क्रोध आदि का नाश करने वाले भागवान काल भैरव के चरर्णों को प्राप्त करते हैं।

काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे
काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे

कालभैरवं भजे
कालभैरवं भजे

Sr No.Serial NameSong Name
1Radhakrishna all Song lyricsराधाकृष्ण के सारे गाने
2Ramayan all Song lyricsरामायण के सारे गाने
3Mahakali – Anth Hi Aarambh Hai all songमहाकाली अंत ही आरंभ हे के सारे गाने
4Devon Ke Dev Mahadev all Song lyricsदेवों के देव महादेव के सारे गाने
5Mahabharat all Song lyricsमहाभारत के सारे गाने

Kaal Bhairav Ashtakam With Meaning – कालभैरवाष्टकम् लिरिक्स

Deva raja sevya mana pavangri pankajam,
Vyala yagna suthra mindu shekaram krupakaram,
Naradadhi yogi vrundha vandhitham digambaram,
Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje.

Meaning in English : Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, whose lotus feet are revered by Lord Indra, king of the devas; who has a snake as his sacrificial thread, a moon on his head and is very compassionate; who is praised by Narada, sage of the gods, and other yogis; who is a Digambara, wearing the sky as his dress, symbolizing his free being.

Bhanu koti bhaswaram, bhavabdhi tharakam param,
Neelakanda meepsidartha dayakam trilochanam,
Kalakala mambujaksha maksha soola maksharam,
Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje.

Meaning in English : Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, who has the brilliance of a million suns, who saves devotees from the cycle of rebirths, and who is supreme; who has a blue throat, who grants us our desires, and who has three eyes; who is death unto death itself and whose eyes look like a lotus; whose trident supports the world and who is immortal.

Soola tanga pasa danda pani madhi karanam,
Syama kaya madhi devamaksharam niramayam,
Bheema vikramam prabhum vichithra thandava priyam,
Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje.

Meaning in English : Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, who holds the trident, mattock, noose, and club in his hands; whose body is dark, who is the primordial Lord, who is immortal, and free from the diseases of the world; who is immensely mighty and who loves the wonderful tandava dance.

Bhukthi mukthi dayakam prasashtha charu vigraham,
Bhaktha vatsalam shivam, samastha loka vigraham,
Vinikwanan manogna hema kinkini lasath kateem,
Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje.

Meaning in English : Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, the one who bestows both desires and salvation, who has a pleasing appearance; who is loving to his devotees, who is stable as the god of all the worlds; who wears a golden belt around his waist with bells that make a melodious sound when he moves.

Dharma sethu palakam, thwa dharma marga nasakam,
Karma pasa mochakam, susharma dayakam vibhum,
Swarna varna sesha pasa shobithanga mandalam,
Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje.

Meaning in English : Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, who ensures that dharma (righteousness) prevails, who destroys the path of adharma (unrighteousness); who saves us from the bonds of karma, thereby freeing our soul; and who has golden-hued snakes entwined around his body.

Rathna padukha prabhabhirama padayugmakam,
Nithyamadwidheeyamishta daivatham niranjanam,
Mrutyu darpa nasanam karaladamshtra mokshanam,
Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje.

Meaning in English : Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, whose feet are adorned with two golden sandals with gems; who is the eternal, non-dual Ishta devata (god who grants our desires); who destroys the pride of Yama (God of Death); whose terrible teeth liberate us.

Attahasa binna padma janda kosa santhatheem,
Drushti pada nashta papa jala mugra sasanam,
Ashtasidhi dayakam kapala malikadaram,
Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje.

Meaning in English : Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, whose loud roar destroys the sheaths of creations (meaning the delusions of our mind) of the lotus-born Brahma; whose very glance is enough to destroy all our sins; who gives us the eight siddhis (accomplishments); and who wears a garland of skulls.

Bhootha sanga nayakam, vishala keerthi dayakam,
Kasi vasa loka punya papa shodhakam vibum,
Neethi marga kovidham purathanam jagatpathim,
Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje.

Meaning in English : Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, who is the leader of ghosts and goblins, who bestows glory; who frees the people of Kashi from their sinful and righteous deeds; who guides us on the path of righteousness, who is the most ancient (eternal) lord of the universe.

Kalabhairavashtakam patanthi yea manoharam,
Jnana mukthi sadhanam, vichithra punya vardhanam,
Soka moha dainya lopa kopa thapa nasanam,
Thea prayanthi Kalabhairavangri saniidhim druvam.

Meaning in English : Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi. Those who read these eight verses of the Kalabhairava Ashtakam, which is beautiful, which is a source of knowledge and liberation, which increases the various forms of righteousness in a person, which destroys grief, attachment, poverty, greed, anger, and heat – will attain (after death) the feet of Lord Kalabhairava (Lord Shiva).

Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje,
Kasika puradhi nadha Kalabhairavam bhaje.

Kalabhairavam bhaje
Kalabhairavam bhaje

कालभैरवाष्टकम् स्तोत्र | Kalbhairavashtak | Bhakti Song | Shiva Songs | Kalbhairavashtak Stotra

Kala Bhairava Ashtakam is a Sanskrit Ashtakam, written by Adi Sankara. The hymn illustrates the personality of Kala Bhairava of Kashi, the God of Death. It consists of eight stanzas, characteristic of an Ashtakam🙏

देवों के देव महादेव भगवान शिव पर आधारित एक श्रृंखला है जिसे महादेव के नाम से भी जाना जाता है यह शृंखला 18 दिसंबर 2011 को रिलीज़ हुए थी

कालभैरवाष्टकम् – देवराजसेव्यमान

  • धारावाहिक : देवों के देव महादेव
  • निर्देशक : निखिल सिन्हा, इस्माइल उमर खान, मनीष सिंह, गोविंद अग्रवाल, सतीश भार्गव
  • संगीत निर्देशक : साजन राजन मिश्रा
  • मूल प्रसारण : 18 दिसम्बर 2011
  • निर्माता : निखिल सिन्हा और अनिरुद्ध पाठक
  • छायांकन : दीपक गर्ग और अमित मालवीय
  • वितरक : स्टार इंडिया
  • मूल भाषा : हिंदी

अंतिम बात :

देवों के देव महादेव के सारे गाने को भारत देश में बहुत ही ज्यादा सुना गया। आज भी लोग देवों के देव महादेव के कालभैरवाष्टकम् गाने को बहुत पसंद करते है। मैंने अपनी तरफ से पूरी कोसिस की है आपको इस आर्टिक्ल से सही जानकारी मिले सके हमे उम्मीद हे कि महादेव भक्तो को देवों के देव महादेव के का यह लिरिक्स पसंद आया होगा

दोस्त! अगर आपको “Kalabhairava Ashtakam Lyrics” Devon Ke Dev mahadev Song Lyrics वाला यह आर्टिकल पसंद है तो कृपया इसे अपने दोस्तों को सोशल मीडिया जैसे कि Facebook,Whatsapp, twitter इत्यादि पर शेयर करना न भूलें। आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए गाने के बोल लाने के लिए प्रेरित करता है

अगर आप अपने किसी पसंदीदा गाने के बोल चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर हमें बेझिझक बताएं हम आपकी ख्वाइस पूरी करने की कोशिष करेंगे धन्यवाद! 🙏 हर हर महादेव 🙏

1 COMMENT

  1. This my compilation with small corrections :
    कालभैरवाष्टकम्
    ॐ नम: शिवाय
    देवराजसेव्यमानपावनांघ्रिपङ्कजं Deva raja sevya mana pavanghri pankajam,
    व्यालयज्ञसूत्रमिन्दुशेखरं कृपाकरम् Vyala yagna suthra mindu shekharam krupakaram,
    नारदादियोगिवृन्दवन्दितं दिगंबरं Naradadi yogi vrund vanditam digambaram,
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kasika puradhi natha Kalabhairavam bhaje.
    अर्थ : जिनके पवित्र चरण-कमल की सेवा देवराज इन्द्र सदा करते रहते हैं तथा जिन्होंने शिरोभूषण के रूप में चन्द्रमा और सर्प का यज्ञोपवीत धारण किया है। जो दिगम्बर-वेश में हैं एवं नारद आदि योगियों का समूह जिनकी वन्दना करता रहता है, ऐसे काशी नगरीके स्वामी कृपालु कालभैरव की मैं आराधना करता हूँ
    भानुकोटिभास्वरं भवाब्धितारकं परं “Bhanu koti bhaswaram, bhavabdhi tarkam param,

    नीलकण्ठमीप्सितार्थदायकं त्रिलोचनम् Neelakantha meepsitartha dayakam trilochanam,
    कालकालमंबुजाक्षमक्षशूलमक्षरं Kalakala mambujaksha maksha soola maksharam,
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kasika puradhi natha Kalabhairavam bhaje.
    अर्थ : जो सूर्य के समान प्रकाश देने वाले हैं, परमेश्वर भवसागर से जो तारने वाले हैं, जिनका कंठ नीला है और सांसारिक समृद्धियां प्रदान करते हैं और जिनके नेत्र तीन हैं। जो काल के भी काल हैं और जिनका त्रिशूल तीन लोकों को धारण करता है और जो अविनाशी हैं उस काशी के स्वामी कालभैरव को मैं भजता हूं।
    शूलटङ्कपाशदण्डपाणिमादिकारणं Sool tanga pasa daand pani madhi karanam,
    श्यामकायमादिदेवमक्षरं निरामयम् Syama kaya madi devamaksharam niramayam,
    भीमविक्रमं प्रभुं विचित्रताण्डवप्रियं Bheema vikramam prabhum vichithra thandava priyam,
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kasika puradhi natha Kalabhairavam bhaje.
    अर्थ : जो अपने दोनों हाथों में त्रिशूल, फन्दा, कुल्हाड़ी और दंड लिया करते हैं, जो सृष्टि के सृजन के कारण हैं और सांवले रंग के हैं और आदिदेव सांसारिक रोगों से परे हैं, जिन्हें विचित्र तांडव पसंद है उस काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।
    भुक्तिमुक्तिदायकं प्रशस्तचारुविग्रहं Bhukthi mukthi dayakam prasasht charu vigraham,
    भक्तवत्सलं स्थितं समस्तलोकविग्रहम् Bhakt vatsalam Sthitam, samastha loka vigraham,
    विनिक्वणन्मनोज्ञहेमकिङ्किणीलसत्कटिं Vinikwanan manogna hema kinkini lasat kateem,
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kasika puradhi natha Kalabhairavam bhaje.
    अर्थ : जो मुक्ति प्रदान करते हैं, शुभ, आनंद दायक रुप धारण करते हैं, जो भक्तों से सदा प्रेम करते हैं और तीने लोकों में स्थित हैं। जो अपनी कमर पर घंटियां धारण करते हैं उन काशी के भगवान कालभैरव को मैं भजता हूं।
    धर्मसेतुपालकं त्वधर्ममार्गनाशकं Dharma sethu palakam, twa dharma marga nasakam,
    कर्मपाशमोचकं सुशर्मदायकं विभुम् Karma pasha mochakam, susharma dayakam vibhum,
    स्वर्णवर्णशेषपाशशोभिताङ्गमण्डलं Swarna varna shes pasha shobhitang mandalam,
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kashika puradhi nath Kalabhairavam bhaje.
    अर्थ : जो सभी धर्मों की रक्षा करते हैं और अधर्म के मार्ग का नाश करते हैं, कर्मों के जाल से मुक्त करते हैं। जो स्वर्ण रंग के सांप से सुशोभित हैं उस काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।
    रत्नपादुकाप्रभाभिरामपादयुग्मकं Ratn paduka prabhabhiram padyugmakam,
    नित्यमद्वितीयमिष्टदैवतं निरंजनम् Nityamad viteeyamishta daivatam niranjanam,
    मृत्युदर्पनाशनं करालदंष्ट्रमोक्षणं Mrutyu darpa nasanam karaladamshtra mokshanam,
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kashika puradhi natha Kalabhairavam bhaje.
    अर्थ : जिनके दोनों पैर रत्न जड़ित हैं, जो इष्ट देवता और परम पवित्र हैं। जो अपने दांतों से मौत का भय दूर करते हैं उन काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।

    अट्टहासभिन्नपद्मजाण्डकोशसंततिं Attahasa bhinna padma janda kosha shasntateem,
    दृष्टिपातनष्टपापजालमुग्रशासनम् Drushti patnashta papa jala mugra shasanam,
    अष्टसिद्धिदायकं कपालमालिकाधरं Ashtasidhi dayakam kapala malikadaram,
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kashika puradhi natha Kalabhairavam bhaje.
    अर्थ : जिनकी हंसी की ध्वनि से कमल से उत्पन्न ब्रह्मा की सभी कृतियों की गति रुक जाती है, जिसकी दृष्टि पड़ने से पापों का नाश हो जाता है, जो अष्ट सिद्धियां प्रदान करते हैं और मुंड़ों की माला धारण करते हैं उस काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।
    भूतसंघनायकं विशालकीर्तिदायकं Bhoot sangha nayakam, vishal keerti dayakam,
    काशिवासलोकपुण्यपापशोधकं विभुम् Kashi vasa loka punya papa shodhakam vibhum,
    नीतिमार्गकोविदं पुरातनं जगत्पतिं Neeti marga kovidam puratanam jagatpatim,
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kashika puradhi natha Kalabhairavam bhaje.
    अर्थ : जो भूत, प्रेतों के राजा हैं और विशाल कीर्ति प्रदान करने वाले हैं, जो सत्य और नीति का रास्ता दिखाते हैं, जो जगतपति हैं उस काशी के नाथ कालभैरव को मैं भजता हूं।
    कालभैरवाष्टकं पठंति ये मनोहरं Kalabhairavashtakam pathanti ye manoharam,
    ज्ञानमुक्तिसाधनं विचित्रपुण्यवर्धनम् Gyana mukti sadhanam, vichithra punya vardhanam,
    शोकमोहदैन्यलोभकोपतापनाशनं Shok moha dainya lobh kop taap nashanam,
    प्रयान्ति कालभैरवांघ्रिसन्निधिं नरा ध्रुवम् Prayanti Kalabhairavanghri sannidhim nara druvam.
    अर्थ : जो काल भैरव का पाठ करते हैं, वो ज्ञान और मुक्ति को प्राप्त करते हैं। पुण्य पाते हैं और नर मृत्यु के पश्चात शोक, ताप, क्रोध आदि का नाश करने वाले भागवान काल भैरव के चरर्णों को प्राप्त करते हैं।
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kashika puradhi natha Kalabhairavam bhaje,
    काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे Kashika puradhi natha Kalabhairavam bhaje,
    कालभैरवं भजे
    कालभैरवं भजे