Breaking

शुक्रवार, 30 अप्रैल 2021

श्री कृष्णा डायलॉग | Shree Krishna Dialogue 27

Shree Krishna Dialogue Status 27। श्री कृष्ण डायलॉग l श्री कृष्ण

"हे पृथ्वी माता सारे विश्व में तुम जैसा क्षमाशील कोई नहीं
तुम्हारी धरती पर साधु भी विचरते हैं और
महा पापी भी अपने क्रूर चरण धरती पर रख के चलते हैं
कुछ लोग तुम्हारी धरती पर पुण्य कर्मों के फूल खिलाते हैं
और कुछ पाप का लहू भी बहाते हैं परंतु तुम सबको सहन करती हो
अपना सीना फाड़ कर सबके लिए अन्न देती हो
सबका भरण पोषण करती हो माँ की भाँति
अपने सब अच्छे बुरे बालकों का कल्याण ही करती हो
किसी का अहित नहीं करती इसलिए माँ तेरी ये मिट्टी इतनी पवित्र है
मैं इसे ही नेविद्य समझकर स्वीकार करता हूँ।"
Krishna Dialogue 25
"he prthvee maata saare vishv mein tum jaisa kshamaasheel koee nahin
tumhaaree dharatee par saadhu bhee vicharate hain aur
maha paapee bhee apane kroor charan dharatee par rakh ke chalate hain
kuchh log tumhaaree dharatee par puny karmon ke phool khilaate hain
aur kuchh paap ka lahoo bhee bahaate hain parantu tum sabako sahan karatee ho
apana seena phaad kar sabake lie ann detee ho
sabaka bharan poshan karatee ho maan kee bhaanti
apane sab achchhe bure baalakon ka kalyaan hee karatee ho
kisee ka ahit nahin karatee isalie maan teree ye mittee itanee pavitr hai
main ise hee nevidy samajhakar sveekaar karata hoon."

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें