Breaking

बुधवार, 31 मार्च 2021

Shree Krishna Dialogue Status 24। श्री कृष्ण डायलॉग l श्री कृष्ण

Shree Krishna Dialogue Status 24। श्री कृष्ण डायलॉग l श्री कृष्ण


"महर्षि मर्यादा अनुसार तो ये मेरा कर्तव्य था की गुरु चरणों में प्रणाम करने

में स्वयं चल कर आपके आश्रम आता परंतु आपने यहाँ स्वयं पधार कर

मुझे ये सेवा से वंचित कर दिया जितनी उत्कंठा भक्त को अपने प्रभु के दर्शन पाने की होती है

उतनी ही उत्कंठा प्रभु को भी अपने भक्त के दर्शन पाने की होती है

भक्त का तो भगवान पर इतना अधिकार होता है

की उसे किसी भी बात के लिए अनुमति लेनी की आवश्यकता ही नहीं होती।"


"maharshi maryaada anusaar to ye mera kartavy tha kee guru charanon mein pranaam karane

 mein svayan chal kar aapake aashram aata parantu aapane yahaan svayan padhaar kar

 mujhe ye seva se vanchit kar diya jitanee utkantha bhakt ko apane prabhu ke darshan paane kee hotee hai

 utanee hee utkantha prabhu ko bhee apane bhakt ke darshan paane kee hotee hai

 bhakt ka to bhagavaan par itana adhikaar hota hai 

kee use kisee bhee baat ke lie anumati lenee kee aavashyakata hee nahin hotee."

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें