Update

Sunday, January 14, 2018

Who is Mahadev | महादेव कौन है ? | Introduction of Mahadev

महादेव कौन है ? | Who is Mahadev explain by Lord Vishnu

महादेव वो है जो नही है और जो नही है वो महादेव है ! 
वो अजन्मा  है ,उनका न आदि है ना अंत  है , 
वो विद्याओं के तीरथ है अविनाशी है विश्वनाथ है कालोपरी है , 
पंचमहाभूतों के नाथ भूतनाथ है ,कैलाशपति है किन्तु सारा संसार उनका निवास्थान है , 
सर्वव्यापी है वो ,सभी कारणों के मुख्य कारण है ,महायोगी है वैरागी है ,
निराकार है वो निर्गुण है वो ,गांधार है वो,चन्दरशेखेर भी वही है ,
त्रिलोचन है वो और नटराज भी वही है ,कर्पूर के सामान गोर वर्ण है उनका ,
नीलकंठ है वो सर्प उनका कंठ हार ,रुद्राक्ष आभूषण ,हाथ त्रिशूल शरीर पर भसम ,
 नेत्रों में परमानंद और मुख पर भोलापन ,सुंदरता की परिभाषा है वो , 
और आकर्षण की पराकाष्टा ,जीव है वो भर्म है वो ,संपूर्ण जगत है ,
निराजन है वो ,विक्राल्काल है वो , वो ही एक लघुबल है ,
वो ही अमर है और वही प्रतीक मृत्यु में मरते भी है ,
महा पर्वत है वो और सुखसंश्रितरण भी वही है ,
पृथ्वी वो है आकाश वो है ,बंधन वो है और मुक्ति भी वही है ,
ज्ञान है और अज्ञान भी ,प्रकाश है अंधकार है ,
दुविधा है वो और निर्णय भी वही है ,
शांति वो है और समस्त आशांति भी वही है ,
वही ब्रह्मा है वो और वही नारायण ,

वही है देवो के देव महादेव.
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय 
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय 

Who is mahadev








Who is mahadev?

Mahadev is the one who is not and who is not, he is mahadev! 
He is the unborn, neither he is nor the intestine, 
he is the tīratha of the vidyā'ō, the avināśī of the pan̄camahābhūtōṁ,
 the pan̄camahābhūtōṁ of the pan̄camahābhūtōṁ, 
but the whole world is his health, all the reasons, 
the face of all the reasons. The Mahāyōgī is the vairāgī, 
the formless is the unqualified, he is the nirgun, the moon is the same, 
the trilōcana is the same and the nataraja is the same, 
he is the sarpa of the snake, he is the serpent, his voice,
 rudraksh jewellery. On the trishul body, 
there is a innocence in the eyes of bliss and 
on the face, the definition of the beauty, and 
the epitome of attraction, he is the whole world, 
he is the whole world, he is the whole world, 
he is vikrālkāla, he is a laghubala, he is a laghubala. 
He is immortal, and he dies in death. He is the great mountain, 
he is also the same. The Earth is the sky, 
the bond is he and the freedom is the same, 
knowledge and knowledge are the darkness, 
the light is darkness. He is the same and 
the decision is the same, peace is him and 
all the hope is the same, he is the God and 
the same narayana, he is the God of Gods.

DEVON KE DEV MAHADEV 

"महादेव", का दिया हुआ
               हमे सब स्वीकार है
मेरे "महादेव" के रहते हुये
             चिंता करना बेकार है ...
आयेगी मुसीबत भी
             तो मेरे "महादेव" उसे टालेंगे ...
हम "महादेव" के ही भक्त है...
           हमे "महादेव" ही संभालेंगे ...

No comments:

Post a Comment