वास्तव में अभिमान क्या हे ? स्वयं विचार कीजिए! | Krishna Seekh

1152
Krishna Seekh

Krishna Seekh : भगवान “श्री कृष्ण की सीख” जिस व्यक्ति के ह्रदय में अहंकार और मन में मोह तथा लालशा होती हे उसके हाथो धर्म का कार्यो हो ही नहीं शकता

Music Director :Jitesh Panchal, Lenin Nandi, Sushant Pawar
Producers :Siddharth Kumar Tewary and Rahul Kumar Tewary
TV Show :Mahabharat (2013)
Editor :Paresh Shah
Narrated by :Saurabh Raj Jain
Genres :Mythology
Original release :16 September 2013 – 16 August 2014
Production company :Swastik Productions

वास्तव में अभिमान क्या हे ? Krishna Seekh – स्वयं विचार कीजिए!

भय… ह्रदय का कारावास है और अभिमान उस कारावास पर लगा ताला… आप स्वंय को देखिये अभिमान से बंधे व्यक्ति के ह्रदय में प्रेम प्रवेश ही नहीं कर पाता। कई मनुष्य अभिमान को अपने जीवन का मन्त्र बना लेते हैं। जीवन का प्रत्येक क्षण वह विताते हैं अपने अभिमान को बढ़ाने में।

किन्तु वास्तव में अभिमान क्या है?
क्या कभी आपने विचार किया है???

अभिमानी व्यक्ति दूसरों से सम्मान मांगता है। सबके मुख पर वो अपने महानतम की प्रशंसा सुनना चाहता है। अपनी शक्ति का वखान सुनने की इच्छा रखता है।

अर्थात अपनी शक्ति का प्रमाण वो दूसरों से मांगता है। उसे स्वंय अपने आप पर विश्वास ही नहीं होता। उसके ह्रदय में भय होता है कि वो दुर्बल है। उसके पास वास्तव में कोई शक्ति ही नहीं।

अर्थात उसी के मन में अभिमान होता है जिसके मन में भय होता है। क्या वास्तव में अभिमान भय का दूसरा नाम नहीं???

स्वंय विचार कीजिए!!!!

अंतिम बात :

दोस्तों कमेंट के माध्यम से यह बताएं कि “Krishna Seekh” वाला यह आर्टिकल आपको कैसा लगा | हमने पूरी कोशिष की हे आपको सही जानकारी मिल सके| आप सभी से निवेदन हे की अगर आपको हमारी पोस्ट के माध्यम से सही जानकारी मिले तो अपने जीवन में आवशयक बदलाव जरूर करे फिर भी अगर कुछ क्षति दिखे तो हमारे लिए छोड़ दे और हमे कमेंट करके जरूर बताइए ताकि हम आवश्यक बदलाव कर सके | 

हमे उम्मीद हे की आपको वाला यह आर्टिक्ल पसंद आया होगा | आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए आर्टिकल लाने के लिए प्रेरित करता है | ऐसी ही कहानी के बारेमे जानने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे धन्यवाद ! 🙏