Adharam Madhuram Lyrics | RadhaKrishna – अधरं मधुरं लिरिक्स

3310
Adharam Madhuram Lyrics 

Adharam Madhuram Lyrics Nayanam Madhuram Hasitam Madhuram song lyrics in hindi and english from series – Radhakrishna Star bharat song sung by Senjuti Das. Music is composed by Surya Raj Kamal and Jitesh Panchal.

Adharam Madhuram Song Detail:

Serial :RadhaKrishn
Music :Surya Raj Kamal, Jitesh Panchal
Singer :Senjuti Das & Chorus
Lyrics :Shekhar Astitwa
Director :Siddharth kumar, Tewary, Loknath Pandey, Madan, Kamal Monga
Genre :Mythology
Original release :1 October 2018 – 21 January 2023
Written by :Mahesh Pandey, Utkarsh Naithani, Swapnil Deshpande, Dilip Jha
Production :Swastik Productions
Editor :Paresh Shah
Language :Hindi

Adharam Madhuram Lyrics – Radhakrishna song lyrics in hindi Star bharat

हरे कृष्ण
हरे कृष्ण
कृष्ण कृष्ण
हरे हरे

अधरं मधुरं वदनं मधुरं
नयनं मधुरं हसितं मधुरम् ।
हृदयं मधुरं गमनं मधुरं
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥ 1 ॥

हिंदी में अर्थ : श्री मधुराधिपति (श्री कृष्ण) का सभी कुछ मधुर है। उनके अधर (होंठ) मधुर है, मुख मधुर है, नेत्र मधुर है, हास्य (मुस्कान) मधुर है, हृदय मधुर है और चाल (गति) भी मधुर है॥

वचनं मधुरं चरितं मधुरं
वसनं मधुरं वलितं मधुरम् ।
चलितं मधुरं भ्रमितं मधुरं
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥ 2 ॥

हिंदी में अर्थ : श्री मधुराधिपति (भगवन श्री कृष्ण) का सभी कुछ मधुर है। उनका बोलना (वचन) मधुर है, चरित्र मधुर है, वस्त्र मधुर है, वलय मधुर है, चाल मधुर है और घूमना (भ्रमण) भी अति मधुर है।

वेणुर्मधुरो रेणुर्मधुरः
पाणिर्मधुरः पादौ मधुरौ ।
नृत्यं मधुरं सख्यं मधुरं
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥ 3 ॥

हिंदी में अर्थ : भगवान् कृष्ण की वेणु मधुर है, बांसुरी मधुर है चरणरज मधुर है, करकमल (हाथ) मधुर है, चरण मधुर है, नृत्य मधुर है, और सख्या (मित्रता) भी अति मधुर है। श्री मधुराधिपति कृष्ण का सभी कुछ मधुर है॥

गीतं मधुरं पीतं मधुरं,
भुक्तं मधुरं सुप्तं मधुरम्।
रूपं मधुरं तिलकं मधुरं,
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥

हिंदी में अर्थ : श्री मधुराधिपति कृष्ण का सभी कुछ मधुर है। उनके गीत (गान) मधुर है, पान (पीताम्बर) मधुर है, भोजन मधुर है, शयन मधुर है। उनका रूप मधुर है, और तिलक (टिका) भी अति मधुर है।

करणं मधुरं तरणं मधुरं,
हरणं मधुरं रमणं मधुरम्।
वमितं मधुरं शमितं मधुरं,
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥

हिंदी में अर्थ : श्री कृष्ण, श्री मधुराधिपति का सभी कुछ मधुर है। उनक कार्य मधुर है, उनका तारना, दुखो से उबरना मधुर है। दुखो का हरण मधुर है। उनका रमण मधुर है, उद्धार मधुर है और शांति भी अति मधुर है।

गुंजा मधुरा माला मधुरा,
यमुना मधुरा वीची मधुरा।
सलिलं मधुरं कमलं मधुरं,
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥

हिंदी में अर्थ : श्री कृष्ण की गुंजा मधुर है, माला भी मधुर है। यमुना मधुर है, उसकी तरंगे भी मधुर है, उसका जल मधुर है और कमल भी अति मधुर है। श्री मधुराधिपति कृष्ण का सभी कुछ मधुर है॥

गोपी मधुरा लीला मधुरा,
युक्तं मधुरं मुक्तं मधुरम्।
दृष्टं मधुरं शिष्टं मधुरं,
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥

हिंदी में अर्थ : श्री मधुराधिपति का सभी कुछ मधुर है। उनकी गोपिया मधुर है, उनकी लीला मधुर है, उनक सयोग मधुर है, वियोग मधुर है, निरिक्षण मधुर (देखना) है और शिष्टाचार भी मधुर है।

गोपा मधुरा गावो मधुरा,
यष्टिर्मधुरा सृष्टिर्मधुरा।
दलितं मधुरं फलितं मधुरं,
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥

हिंदी में अर्थ : श्री मधुराधिपति का गोप मधुर हैं, गायें मधुर हैं, छड़ी मधुर है, सृष्टि (रचना) मधुर है, दलन (विनाश करना) मधुर है, फल देना (वर देना) मधुर है, आप सभी प्रकार से मधुर है

अधरं मधुरं वदनं मधुरं
नयनं मधुरं हसितं मधुरम् ।
हृदयं मधुरं गमनं मधुरं
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥ 1 ॥

हिंदी में अर्थ : “अधरं” अर्थात् “होंठ” जो मधुर हैं, “वदनं” अर्थात् “चेहरा” जो मधुर हैं।

यह श्लोक भगवान श्रीकृष्ण की विशेषताओं को स्तुति करता है और उनके सुंदर रूप, हंसी और चाल की मधुरता को व्यक्त करता है। इसका अर्थ है कि भगवान श्रीकृष्ण के होंठ मधुर हैं, उनका चेहरा मधुर हैं और उनकी चाल मधुर हैं। यह श्लोक उनकी सुंदरता, माधुर्य और आकर्षण का महत्व बताने के लिए प्रयुक्त होता है।

Adharam Madhuram Lyrics – Radhakrishna Star bharat

Adharam Madhuram Vadanam Madhuram
Nayanam Madhuram Hasitam Madhuram |
Hrdayam Madhuram Gamanam Madhuram
Madhura-Adhipater-Akhilam Madhuram ||1||

Vacanam Madhuram Caritam Madhuram
asanam Madhuram Valitam Madhuram |
Calitam Madhuram Bhramitam Madhuram
Madhura-Adhipater-Akhilam Madhuram ||2||

Vennur-Madhuro Rennur-Madhurah
Paannir-Madhurah Paadau Madhurau |
Nrtyam Madhuram Sakhyam Madhuram
Madhura-Adhipater-Akhilam Madhuram ||3||

Adharam Madhuram Vadanam Madhuram
Nayanam Madhuram Hasitam Madhuram |
Hrdayam Madhuram Gamanam Madhuram
Madhura-Adhipater-Akhilam Madhuram ||1||

Adharam Madhuram Lyrics Song | RadhaKrishna – Star bharat

Youtube Video

अधरं मधुरं लिरिक्स” भगवान विष्णु को समर्पित एक भक्ति गीत है। अधरं मधुरं का अनुवाद कुछ इस प्रकार हे की आधार मीठा है, जो इस विश्वास को संदर्भित करता है कि भगवान विष्णु ब्रह्मांड की नींव हैं और उनका स्वभाव मधुर है। यह गीत आम तौर पर हिंदू मंदिरों में प्रार्थनाओं और पूजा समारोहों के दौरान गाया जाता है।

अधरं मधुरं लिरिक्स

  • सीरियल : राधाकृष्ण
  • संगीत: सूर्य राज कमल, जितेश पांचाल
  • गीत: ट्रेडिशनल
  • निदेशक: सिद्धार्थ कुमार, तिवारी, लोकनाथ पांडे, मदन, कमल मोंगा
  • शैली: पौराणिक कथा
  • मूल रिलीज़: 1 अक्टूबर 2018 – 21 जनवरी 2023
  • लेखक: महेश पांडे, उत्कर्ष नैथानी, स्वप्निल देशपांडे, दिलीप झा
  • प्रोडक्शन: स्वास्तिक प्रोडक्शंस
  • संपादक: परेश शाह

निष्कर्ष :

दोस्तो अगर आपको “Adharam Madhuram Lyrics” पसंद है तो कृपया इसे अपने दोस्तों को सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूलें। आपका एक शेयर हमें आपके लिए नए गाने के बोल लाने के लिए प्रेरित करता है

 हमें उम्मीद है की राधाकृष्ण के भक्तो को यह अधरं मधुरं लिरिक्स वाला आर्टिकल बहुत पसंद आया होगा। 

अगर आप अपने किसी पसंदीदा गाने के बोल चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर हमें बेझिझक बताएं हम आपकी ख्वाइस पूरी करने की कोशिष करेंगे धन्यवाद!🙏 जय श्री कृष्ण 🙏