Breaking

बुधवार, 5 मई 2021

भरत मिलाप - Ramayan Shreeram Bharat milap

भरत मिलाप 

श्री राम के विवाह के बाद राजा दशरथ श्री राम को अयोध्या का राजा बनाने की घोषणा करते हैं तो मंथरा रानी कैकयी को भड़काती हैं और कहती है की राम को राजा ना बनने दे, राम की जगह भरत को राजा बनाया जाए ये माँग कैकयी को राजा दशरथ से करनी चाहिए। 

कैकयी मंथरा की बात से प्रभावित हो कोप भवन में चली जाती हैं और राजा दशरथ से अपने दो वचन माँगती है जिसमें राम को 14 वर्ष का वनवास और भरत को राजा बनाया जाए। राजा दशरथ कैकयी के वचनों में बंध कर रह जाते हैं और श्री राम को वनवास के लिए भेज देते हैं। 
Bharat Milap
श्री राम अपने पिता के आदेश की पूर्ति हेतु वनवास के लिए तैयार हो जाते हैं तब उनके साथ लक्ष्मण और माता सीता भी वनवास के लिए जाने की आज्ञा माँगते हैं और वो भी उनके साथ वनवास के लिए चले जाते हैं। श्री राम के वियोग में राजा दशरथ मृत्यु को प्राप्त हो जाते हैं। जब यह सब हो रहा था तो भरत राज्य में नहीं था वह अपने ननिहाल गया हुआ था जब वह वापस आता है तो उसे सब पता चलता है तो वह अपनी माँ कैकयी पर क्रोधित होता है और श्री राम को वापस लाने के लिए चल पड़ता है। 


भरत श्री राम को वापस चलने के लिए मनाता है परंतु श्री राम वापस नहीं आते वो अपने पिता के वचन का पालन करने के लिए वनवास पूरा करते हैं। वनवास के दौरान श्री राम बहुत से राक्षसों को मारते हैं जिसमें लंका पति रावण को भी मरते हैं, जो माता सीता का हरण कर ले जाता हैं। 


माता सीता को ढूँढते हुए श्री राम हनुमान, सुग्रीव जैसे अन्य मित्रों से मिलते हैं जो उनकी माता सीता को वापस लाने में सहायता करते हैं। श्री राम रावण को मारकर माता सीता को जब वापस लेकर अयोध्या लौटते हैं तो भरत राज्य के बाहर श्री राम की ही तरह वनवासी रूप में रह रहा होता है। जब दोनों भाई आपस में मिलते है तो बहुत ही प्रसन होते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें