Breaking

सोमवार, 8 मार्च 2021

रामायण डायलॉग - Ramayan Dialogue Ramnand Sagar 17

Ramayan Dialogue Status । रामायण डायलॉग 17 राम Status 17


राम ने कहाँ 
"भरत 
हमारे पिता जाने से पहले ये आज्ञा दे गए हैं 
कि एक पुत्र वन में जाए 
तथा दूसरा राजा बने 
उनकी इस आज्ञा का पालन करना ही हम सब का धर्म है 
भारत ने कहाँ 
ठीक है, 
अगर यही धर्म है तो मैं चौदह वर्ष वन में रहता हूँ 
परंतु आप अयोध्या लौट जाइए
राम ने कहाँ
धर्म व्यापार नहीं होता भरत 
जो वस्तुओं का अदल-बदल कर लिया जाए 
धर्म अति कठोर और व्यक्तिगत होता है 
यदि हर प्राणी अपना कर्तव्य एक दूसरे के कंधे पर डाल दे 
तो सृष्टि में अनाचार फैल जाएगा 
तुम राजा होकर ऐसे अनाचार की बात सोचते हो 
तो उसका प्रभाव प्रजा के साधारण मनुष्यों पर क्या पड़ेगा "
hamaare pita jaane se pahale ye aagya de gae hain ki 
ek putr van mein jae 
tatha doosara raaja bane 
unakee is aagya ka paalan karana hee ham sab ka dharm hai 
bhaarat ne kahaan
theek hai, 
agar yahee dharm hai to main chaudah varsh van mein rahata hoon 
parantu aap ayodhya laut jaie 
dharm vyaapaar nahin hota bharat 
jo vastuon ka adal-badal kar liya jae 
dharm ati kathor aur vyaktigat hota hai 
yadi har praanee apana kartavy ek doosare ke kandhe par daal de 
to srshti mein anaachaar phail jaega 
tum raaja hokar aise anaachaar kee baat sochate ho 
to usaka prabhaav praja ke saadhaaran manushyon par kya padega "

Ramayan Dialogue Status is a series of Dialogue Clips from Ramanand Sagar's Ramayan.

Spoken by actors portraying Sri Ram, Sita Ma, Hanuman ji, Lakshman , Bharat, Ravan, Meghnad, Kumbhkaran among others, these Ramayan Dialogues are like life lessons for everyone to learn from.


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें