Update

Friday, July 24, 2020

Best Motivational Quotes by Sandeep Maheshwari

जब हिम्मत टूटे तो इसे सुन लेना - Best Motivational Quotes by Sandeep Maheshwari 


संदीप माहेश्वरी के प्रेरणात्मक विचार


जब में मुस्किलो से डरा तो मरा तो नहीं मगर जी भी ना सका 

ना पूछ की मेरी मंजिल कहा हे अभी तो सफर का इरादा किया हे

ना हारूंगा हौसला चाहे कुछ भी हो जाये
ये मेने किसी और से नहीं खुद से वादा किया हे

संघर्ष की राह पर जो चलता हे वो ही दुनिया को बदलता हे
जिसने अँधेरे से जंग जीती हे सूरज बनकर वोही चमकता हे

रख हौसला की वो मंज़र भी आएगा।
प्यासे के पास चल कर खुद समंदर भी आयेंगा।

जमीन पर बैठकर क्यों आसमान देखता हे अपने पंखो को खोल
ये जमाना सिर्फ उडान देखता हे

भरोसा अगर ईश्वर पर हे तो अपनी तकदीर में लिखा हे वो ही पाओगे
लेकिन भरोसा अगर खुद पर हे तो ईश्वर भी आपकी तकदीर वैसी ही लिखेगा
जैसा की आप चाहोगे

बुजी शमा भी जल सकती है
तुफानो से कस्ती निकल सकती हे
होके मायूस यु न अपने इरादे बदल
क्योकि तेरी किस्मत कभीभी बदल सकती हे

बिना संघर्ष के कोई महान नहीं होता
पथ्थर पर जब तक चोट ना पड़े पथ्थर भी भगवान् नहीं होते

थक कर न बैठ ऐ मंजिल के मुसाफिर एक दिन ऐसा भी आएगा
की जब मंजिल भी मिलेगी और जीने का मजा भी आएगा

कुछ किये बिना ही जय जयकार नहीं होती
कोशिश करने वालो की कभी हार नहीं होती

जीत की खातिर दिल में जूनून चाहिए
जिसमे उबाल हो ऐसा खून चाहिए
ये आसमान भी आएगा ज़मीन पर
बस इरादों में दम चाहिए 

कोशिश के बावजूद भी हो जाती है कभी हार
होकर निराश मत बेथ मेरे यार
बढ़ते रहना आगे चाहे जैसा भी हो मौसम
पा लेती हे चींटी भी मंजिल गिर गिर कर बार बार

इनकार किया जिन्होंने मुझे मेरा समय देखकर
वादा है मुझे ऐसा भी समय लाऊंगा एक दिन
की मिलना पड़ेगा उनको मुझसे मेरा समय लेकर

मैदान में हारा हुआ इंसान फिर से जीत सकता है
लेकिन मन से हारा हुआ इंसान कभी नहीं जीत सकता

हीरे को परखना है तो अँधेरे का इंतजार करो,
धूप में तो काँच के टुकड़े भी चमकने लगते हैं

चाहे मुश्किल कितनी भी बड़ी हो 
आज नहीं तो कल हल जरूर निकलेगा

जमीं बंजर है भी तो क्या 
अगर हार न मानी जाये तो पानी जरूर निकलेगा 

कह दो मुश्किलों को थोड़ा सा ऑर्डर कठिन हो जाये
कह दो चुनौतियों को थोड़ी और बड़ी हो जाये 
अरे नापना चाहते हो हमारी हिम्मत 
कह दो आसमा को थोड़ा सा और ऊपर उठ जाये 

निगाहों में मंजिल थी
गिरे और गिरकर संभलते रहे
हवाओं ने बहुत कोशिश की
मगर चिराग आँधियों में जलते रहे

sandeep-maheshwari


NO MATTER HOW HARD IT GETS

NEVER GIVE UP




No comments:

Post a Comment

Auto