Breaking

शनिवार, 13 नवंबर 2021

Radhakrishna Poem - Banke Bihari Ki Shayari | कान्हा पूनम का है चंदा

Radhakrishna Poem best dialouge - Banke Bihari Ki Shayari | कान्हा पूनम का है चंदा         

Listen to this Soulful Radhakrishna Poem - Banke Bihari Ki Shayari whatever you may call, from Radha Krishn's Episode where Banke Bihari recites the entire journey of Radha and Krishna in the form of a poem !!!

Radhakrishna Poem best dialouge

                राधाकृष्ण - Radhakrishna Poem

कान्हा पूनम का है चंदा,

                        फिर उसका तेज क्यों आधा है।

लट श्यामल-सी , घुंघराली-सी ,

                             फिर लगती क्यों सादा है ।।


मुस्कुराहट उसकी जगमग जगमग ,

                                     आनंद क्यों विहीन है।

चलता है क्यों डगमग डगमग ,

                           जो सबको मार्ग दिखाता है।।


जो सबके महाविघ्नहर्ता हैं ,

                          क्या उसकी भी कोई बाधा है।

हां है , क्योंकि है तो वो अपूर्ण ही ,

                      जब तक न साथ उसके राधा है।।


पनघट पर हर मटकी फोड़ी ,

                               माखन खाया करके चोरी।

मर्दन कर दिया महानाग , 

                 सोचो कैसी होगी वह प्रेम की डोरी।।


                       वध किया कंस,

                        सींचा गौवंश ,

             सोचो कितना होगा वह प्रबल ।


                 कभी चक्र धारण किया ,

                      कभी नाद शंख ,

                जपते उसको सभी अबल ।


यमुना तट के बंसी का धुन ,

                           क्यों सबके मन को भाता है ।

क्योंकि इसके तो हर सुर में राधा है,

                      इसके तो कण-कण में राधा है ।।


मुरलीधर से रणछोड़ बना ,

                        तो कभी लगाई रण की पुकार ।

जब धर्म था आरक्षित और भयभीत ,

                          कैसे दिया इसने सब संवार ।।


सागर से द्वारका छीन ली ,

                           तो उंगली पर गोवर्धन साधा ।

परन्तु जिसके अश्रु कभी सह ही न पाया ,

                                  वो थी तो केवल राधा ।।


     एकमात्र राधा है जिसने कृष्ण को साधा है ,

                        इसलिए यदि ,

        नौका कृष्ण है , तो पतवार राधा है ।

       जो पंछी कृष्ण है , तो बयार राधा है ।

      यदि सिंह कृष्ण है , तो दहाड़ राधा है ।


   इसलिए विरह के बाद कृष्ण लौटकर आता है ,

      क्योंकि उसका एकमात्र लक्ष्य राधा है ।।


जो बिछड़े एक श्राप से , 

                                शत वर्ष भोगे सत्ताप के ।

पुनर्मिलन जो पूर्ण होने को ही था ,

                                पुनः दूर हो गए पाप से ।।


न तन में है , न वन में है ,

                             न बरसाना के उपवन में है ,

अरे ! कहां गया ये केशव , 

                             पाषाण बना या कंकड़ वो ,

जो जीवित है हरेक के मन में ,

                                        यह प्रश्न हो ।।


अरे यदि कृष्ण को ढूंढ़ना है ,

                       तो राधा के ह्रदय को ढूंढ़ो मूर्ख ।

वो वैसे ही है ,

                   जैसे गौरी के मन में शंकर हो ।।


एक भाग अधूरा सृष्टि में ,

                          जो करता यूं प्रेम से विचरण ,

तो भाग दूसरा पूर्ण करने ,

                                   स्वयं वो पुनः आता है , 

कुछ ऐसा ही राधाकृष्ण का नाता है ,

                          जो 'प्रेम-सेतु'  कहलाता है ।।

  जो 'प्रेम-सेतु'  कहलाता है ।।

                         राधे! राधे!   

Banke Bihari Ki Shayari | Radha Krishna | Full HD Lyrics




raadhaakrshn

kaanha poonam ka hai chanda,

phir usaka tej kyon aadha hai. lat shyaamal-see ,

ghungharaalee-see , phir lagatee kyon saada hai ..

muskuraahat usakee jagamag jagamag ,

aanand kyon viheen hai.

chalata hai kyon dagamag dagamag ,

jo sabako maarg dikhaata hai.

jo sabake mahaavighnaharta hain ,

kya usakee bhee koee baadha hai.

haan hai , kyonki hai to vo apoorn hee ,

jab tak na saath usake raadha hai..

panaghat par har matakee phodee ,

maakhan khaaya karake choree.

mardan kar diya mahaanaag ,

socho kaisee hogee vah prem kee doree..

vadh kiya kans, seencha gauvansh ,

socho kitana hoga vah prabal .

kabhee chakr dhaaran kiya ,

kabhee naad shankh ,

japate usako sabhee abal .

yamuna tat ke bansee ka dhun ,

kyon sabake man ko bhaata hai .

kyonki isake to har sur mein raadha hai,

isake to kan-kan mein raadha hai ..

muraleedhar se ranachhod bana ,

to kabhee lagaee ran kee pukaar .

jab dharm tha aarakshit aur bhayabheet ,

kaise diya isane sab sanvaar ..

saagar se dvaaraka chheen lee ,

to ungalee par govardhan saadha .

parantu jisake ashru kabhee sah hee na paaya ,

vo thee to keval raadha ..

ekamaatr raadha hai jisane krshn ko saadha hai ,

isalie yadi , nauka krshn hai ,

to patavaar raadha hai .

jo panchhee krshn hai ,

to bayaar raadha hai .

yadi sinh krshn hai ,

to dahaad raadha hai .

isalie virah ke baad krshn lautakar aata hai ,

kyonki usaka ekamaatr lakshy raadha hai ..

jo bichhade ek shraap se ,

shat varsh bhoge sattaap ke .

punarmilan jo poorn hone ko hee tha ,

punah door ho gae paap se ..

na tan mein hai , na van mein hai ,

na barasaana ke upavan mein hai ,

are ! kahaan gaya ye keshav ,

paashaan bana ya kankad vo ,

jo jeevit hai harek ke man mein ,

yah prashn ho ..

are yadi krshn ko dhoondhana hai ,

to raadha ke hraday ko dhoondho moorkh .

vo vaise hee hai ,

jaise gauree ke man mein shankar ho ..

ek bhaag adhoora srshti mein ,

jo karata yoon prem se vicharan ,

to bhaag doosara poorn karane ,

svayan vo punah aata hai ,

kuchh aisa hee raadhaakrshn ka naata hai ,

jo prem-setu kahalaata hai ..

raadhe! raadhe!


Radhakrishna Poem- kaanha poonam ka hai chanda

Music - The music was composed and written as listed below - 

Artist - Sumedh Mudgalkar 

Lyricist - Vinod Sharma

🌹राधाकृष्ण🌹👼👶जय कन्हैया लाल की👶👼

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें