Breaking

शनिवार, 13 नवंबर 2021

Radhakrishna Poem - best dialogue Banke Bihari Ki Shayari | कान्हा पूनम का है चंदा

Radhakrishna Poem best dialouge - Banke Bihari Ki Shayari | कान्हा पूनम का है चंदा         

Listen to this Soulful Poem or Shayari whatever you may call, from Radha Krishn's Episode where Banke Bihari recites the entire journey of Radha and Krishna in the form of a poem !!!

Radhakrishna Poem best dialouge

                राधाकृष्ण - Radhakrishna Poem

कान्हा पूनम का है चंदा,

                        फिर उसका तेज क्यों आधा है।

लट श्यामल-सी , घुंघराली-सी ,

                             फिर लगती क्यों सादा है ।।


मुस्कुराहट उसकी जगमग जगमग ,

                                     आनंद क्यों विहीन है।

चलता है क्यों डगमग डगमग ,

                           जो सबको मार्ग दिखाता है।।


जो सबके महाविघ्नहर्ता हैं ,

                          क्या उसकी भी कोई बाधा है।

हां है , क्योंकि है तो वो अपूर्ण ही ,

                      जब तक न साथ उसके राधा है।।


पनघट पर हर मटकी फोड़ी ,

                               माखन खाया करके चोरी।

मर्दन कर दिया महानाग , 

                 सोचो कैसी होगी वह प्रेम की डोरी।।


                       वध किया कंस,

                        सींचा गौवंश ,

             सोचो कितना होगा वह प्रबल ।


                 कभी चक्र धारण किया ,

                      कभी नाद शंख ,

                जपते उसको सभी अबल ।


यमुना तट के बंसी का धुन ,

                           क्यों सबके मन को भाता है ।

क्योंकि इसके तो हर सुर में राधा है,

                      इसके तो कण-कण में राधा है ।।


मुरलीधर से रणछोड़ बना ,

                        तो कभी लगाई रण की पुकार ।

जब धर्म था आरक्षित और भयभीत ,

                          कैसे दिया इसने सब संवार ।।


सागर से द्वारका छीन ली ,

                           तो उंगली पर गोवर्धन साधा ।

परन्तु जिसके अश्रु कभी सह ही न पाया ,

                                  वो थी तो केवल राधा ।।


     एकमात्र राधा है जिसने कृष्ण को साधा है ,

                        इसलिए यदि ,

        नौका कृष्ण है , तो पतवार राधा है ।

       जो पंछी कृष्ण है , तो बयार राधा है ।

      यदि सिंह कृष्ण है , तो दहाड़ राधा है ।


   इसलिए विरह के बाद कृष्ण लौटकर आता है ,

      क्योंकि उसका एकमात्र लक्ष्य राधा है ।।


जो बिछड़े एक श्राप से , 

                                शत वर्ष भोगे सत्ताप के ।

पुनर्मिलन जो पूर्ण होने को ही था ,

                                पुनः दूर हो गए पाप से ।।


न तन में है , न वन में है ,

                             न बरसाना के उपवन में है ,

अरे ! कहां गया ये केशव , 

                             पाषाण बना या कंकड़ वो ,

जो जीवित है हरेक के मन में ,

                                        यह प्रश्न हो ।।


अरे यदि कृष्ण को ढूंढ़ना है ,

                       तो राधा के ह्रदय को ढूंढ़ो मूर्ख ।

वो वैसे ही है ,

                   जैसे गौरी के मन में शंकर हो ।।


एक भाग अधूरा सृष्टि में ,

                          जो करता यूं प्रेम से विचरण ,

तो भाग दूसरा पूर्ण करने ,

                                   स्वयं वो पुनः आता है , 

कुछ ऐसा ही राधाकृष्ण का नाता है ,

                          जो 'प्रेम-सेतु'  कहलाता है ।।

  जो 'प्रेम-सेतु'  कहलाता है ।।

                         राधे! राधे!   

Banke Bihari Ki Shayari | Radha Krishna | Full HD Lyrics


raadhaakrshn 

kaanha poonam ka hai chanda, 

phir usaka tej kyon aadha hai. lat shyaamal-see , 

ghungharaalee-see , phir lagatee kyon saada hai .. 

muskuraahat usakee jagamag jagamag , 

aanand kyon viheen hai. 

chalata hai kyon dagamag dagamag , 

jo sabako maarg dikhaata hai.

jo sabake mahaavighnaharta hain , 

kya usakee bhee koee baadha hai. 

haan hai , kyonki hai to vo apoorn hee , 

jab tak na saath usake raadha hai.. 

panaghat par har matakee phodee , 

maakhan khaaya karake choree. 

mardan kar diya mahaanaag , 

socho kaisee hogee vah prem kee doree.. 

vadh kiya kans, seencha gauvansh , 

socho kitana hoga vah prabal . 

kabhee chakr dhaaran kiya , 

kabhee naad shankh , 

japate usako sabhee abal . 

yamuna tat ke bansee ka dhun , 

kyon sabake man ko bhaata hai . 

kyonki isake to har sur mein raadha hai, 

isake to kan-kan mein raadha hai .. 

muraleedhar se ranachhod bana , 

to kabhee lagaee ran kee pukaar . 

jab dharm tha aarakshit aur bhayabheet , 

kaise diya isane sab sanvaar .. 

saagar se dvaaraka chheen lee , 

to ungalee par govardhan saadha . 

parantu jisake ashru kabhee sah hee na paaya , 

vo thee to keval raadha .. 

ekamaatr raadha hai jisane krshn ko saadha hai , 

isalie yadi , nauka krshn hai , 

to patavaar raadha hai . 

jo panchhee krshn hai , 

to bayaar raadha hai . 

yadi sinh krshn hai , 

to dahaad raadha hai . 

isalie virah ke baad krshn lautakar aata hai , 

kyonki usaka ekamaatr lakshy raadha hai ..

jo bichhade ek shraap se , 

shat varsh bhoge sattaap ke . 

punarmilan jo poorn hone ko hee tha , 

punah door ho gae paap se .. 

na tan mein hai , na van mein hai , 

na barasaana ke upavan mein hai , 

are ! kahaan gaya ye keshav , 

paashaan bana ya kankad vo , 

jo jeevit hai harek ke man mein , 

yah prashn ho .. 

are yadi krshn ko dhoondhana hai , 

to raadha ke hraday ko dhoondho moorkh . 

vo vaise hee hai , 

jaise gauree ke man mein shankar ho .. 

ek bhaag adhoora srshti mein ,

jo karata yoon prem se vicharan , 

to bhaag doosara poorn karane , 

svayan vo punah aata hai , 

kuchh aisa hee raadhaakrshn ka naata hai , 

jo prem-setu kahalaata hai .. 

raadhe! raadhe!


Radhakrishna Poem- kaanha poonam ka hai chanda

Music - The music was composed and written as listed below - 

Artist - Sumedh Mudgalkar 

Lyricist - Vinod Sharma

🌹राधाकृष्ण🌹👼👶जय कन्हैया लाल की👶👼

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें