Breaking

शुक्रवार, 10 सितंबर 2021

श्रीगणेश तुलसी-दूर्वा और मूषक की कहानी | shree ganesha story

भगवान गणेश-तुलसी और दूर्वा - क्यों तुलसी को विनायक श्रीगणेश जी ने दिया श्राप.!!!

हिन्दू धर्म ग्रंथो के अनुसार भगवान गणेश को भगवान श्री कृष्ण का अवतार बताया गया है और भगवान श्री कृष्ण स्वयं भगवान विष्णु के अवतार है। लेकिन जो तुलसी भगवान विष्णु को अत्यंत प्रिय है, इतनी प्रिय की भगवान विष्णु के ही एक रूप शालिग्राम का विवाह तक तुलसी से होता है वही तुलसी भगवान गणेश को अप्रिय है, इतनी अप्रिय की भगवान गणेश के पूजन में इसका प्रयोग वर्जित है। 


shreeganesh tulsi durva or mushak story


पर ऐसा क्यों है इसके सम्बन्ध में एक पौराणिक कथा है

एक बार श्री गणेश गंगा किनारे तप कर रहे थे। इसी कालावधि में धर्मात्मज की नवयौवना कन्या तुलसी ने विवाह की इच्छा लेकर तीर्थ यात्रा पर प्रस्थान किया। देवी तुलसी सभी तीर्थस्थलों का भ्रमण करते हुए गंगा के तट पर पंहुची। गंगा तट पर देवी तुलसी ने युवा तरुण विनायक श्रीगणेश जी को देखा जो तपस्या में विलीन थे। 


शास्त्रों के अनुसार तपस्या में विलीन विनायक श्रीगणेश जी रत्न जटित सिंहासन पर विराजमान थे। उनके समस्त अंगों पर चंदन लगा हुआ था। उनके गले में पारिजात पुष्पों के साथ स्वर्ण-मणि रत्नों के अनेक हार पड़े थे। उनके कमर में अत्यन्त कोमल रेशम का पीताम्बर लिपटा हुआ था।


तुलसी श्री गणेश के रुप पर मोहित हो गई और उनके मन में गणेश से विवाह करने की इच्छा जाग्रत हुई। तुलसी ने विवाह की इच्छा से उनका ध्यान भंग किया। तब भगवान श्री गणेश ने तुलसी द्वारा तप भंग करने को अशुभ बताया और तुलसी की मंशा जानकर स्वयं को ब्रह्मचारी बताकर उसके विवाह प्रस्ताव को नकार दिया।

श्री गणेश द्वारा अपने विवाह प्रस्ताव को अस्वीकार कर देने से देवी तुलसी बहुत दुखी हुई और आवेश में आकर उन्होंने श्री गणेश के दो विवाह होने का शाप दे दिया। 


इस पर श्री गणेश ने भी तुलसी को शाप दे दिया कि तुम्हारा विवाह एक असुर से होगा। एक राक्षस की पत्नी होने का शाप सुनकर तुलसी ने श्री गणेश से माफी मांगी। तब श्री गणेश ने तुलसी से कहा कि तुम्हारा विवाह शंखचूर्ण राक्षस से होगा। किंतु फिर तुम भगवान विष्णु और श्रीकृष्ण को प्रिय होने के साथ ही कलयुग में जगत के लिए जीवन और मोक्ष देने वाली होगी। पर मेरी पूजा में तुलसी चढ़ाना शुभ नहीं माना जाएगा।

तब से ही भगवान श्री विनायक श्रीगणेश जी की पूजा में तुलसी वर्जित मानी जाती है।

विनायक श्रीगणेश जी और दूर्वा की कथा

हम सभी यह जानते हैं कि श्री गणेश को दूर्वा बहुत प्रिय है। दूर्वा को दूब भी कहा जाता है। यह एक प्रकार की घास होती है, जो सिर्फ गणेश पूजन में ही उपयोग में लाई जाती है। 


आखिर श्री गणेश को क्यों इतनी प्रिय है दूर्वा? इसके पीछे क्या कहानी है? 


क्यों इसकी 21 गांठे ही श्री गणेश को चढ़ाई जाती है? 


एक पौराणिक कथा के अनुसार प्राचीनकाल में अनलासुर नाम का एक दैत्य था, उसके कोप से स्वर्ग और धरती पर त्राहि-त्राहि मची हुई थी। अनलासुर एक ऐसा दैत्य था, जो मुनि-ऋषियों और साधारण मनुष्यों को जिंदा निगल जाता था। इस दैत्य के अत्याचारों से त्रस्त होकर इंद्र सहित सभी देवी-देवता, ऋषि-मुनि भगवान महादेव से प्रार्थना करने जा पहुंचे और सभी ने महादेव से यह प्रार्थना की कि वे अनलासुर के आतंक का खात्मा करें।


तब महादेव ने समस्त देवी-देवताओं तथा ऋषि-मुनियों की प्रार्थना सुनकर, उनसे कहा कि दैत्य अनलासुर का नाश केवल श्री गणेश ही कर सकते हैं। फिर सबकी प्रार्थना पर श्री गणेश ने अनलासुर को निगल लिया, तब उनके पेट में बहुत जलन होने लगी। इस परेशानी से निपटने के लिए कई प्रकार के उपाय करने के बाद भी जब गणेशजी के पेट की जलन शांत नहीं हुई, तब कश्यप ऋषि ने दूर्वा की 21 गांठें बनाकर श्री गणेश को खाने को दीं। 


यह दूर्वा श्री गणेशजी ने ग्रहण की, तब कहीं जाकर उनके पेट की जलन शांत हुई। ऐसा माना जाता है कि श्री गणेश को दूर्वा चढ़ाने की परंपरा तभी से आरंभ हुई।


शास्त्रों के अनुसार नरसिंह अवतार के समय जब भगवान के कुछ बाल पृथ्वी पर गिरे उनसे ही दूर्वा और कुश उत्पन्न हुई. व्यवसाय में जब बुध शुक्र का योग ठीक ना चल रहा हो तो हरी दूर्वा से गौ सेवा करने से लाभ होता है . स्वस्थ में लाभ के लिए दूर्वा द्वारा शिव का अभिषेक करने से लाभ होता है. दुर्वासा ऋषि की शक्ति भी इसी दूर्वा के कारण ही थी.

गणपति की सवारी मूषक क्यों है?

सतयुग की कथा है। उस समय एक असुर मूषक यानी चूहे के रूप में पाराशर ऋषि के आश्रम में पहुंच गया और पूरा आश्रम कुतर-कुतर कर नष्ट कर दिया। आश्रम के सभी ऋषियों ने विनायक श्रीगणेश जी से मूषक का आतंक खत्म करने की प्रार्थना की। विनायक श्रीगणेश जी वहां प्रकट हुए और उन्होंने अपना पाश फेंक कर मूषक को बंदी बना लिया। तब मूषक ने विनायक श्रीगणेश जी से प्रार्थना की कि मुझे मृत्यु दंड न दें। विनायक श्रीगणेश जी ने उसकी प्रार्थना स्वीकार कर ली और वर मांगने के लिए कहा। मूषक का स्वभाव कुतर्क करने का था उसने कहा कि मुझे कोई वर नहीं चाहिए, आप ही मुझसे कोई वर मांग लीजिए।


गणेशजी उसके कुतर्क पर हंसे और कहा कि तू मुझे कुछ देना चाहता है तो मेरा वाहन बन जा। मूषक इसके लिए राजी हो गया, लेकिन जैसे ही विनायक श्रीगणेश जी उसके ऊपर सवार हुए तो वह दबने लगा। उसने फिर विनायक श्रीगणेश जी से प्रार्थना की कि कृपया मेरे अनुसार अपना वजन करें। तब विनायक श्रीगणेश जी ने मूषक के अनुसार अपना भार कर लिया। तब से मूषक विनायक श्रीगणेश जी का वाहन है।


इसका मनौवैज्ञानिक पक्ष यह है कि विनायक श्रीगणेश जी बुद्धि के देवता हैं और मूषक कुतर्क का प्रतीक। कुतर्कों को बुद्धि से ही शांत किया जा सकता है। इसीलिए गणेशजी को चूहे पर सवार दर्शाया जाता है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें