Breaking

शुक्रवार, 10 सितंबर 2021

श्री गणेश जी का अत्यंत सरल पौराणिक मंत्र - Lord Ganesh Mantra

श्री गणेश जी का अत्यंत सरल पौराणिक मंत्र - Lord Ganesh Mantra

1.  श्री गणेशाय नम:
2.  ॐ श्री गणेशाय नम:
3.  गं गणपतये नम:
4.  ॐ गं गणपतये नम:
5.  ॐ गं ॐ गणाधिपतये नम:
6.  ॐ सिद्धि विनायकाय नम:
7.  ॐ गजाननाय नम.
8.  ॐ एकदंताय नमो नम:
9.  ॐ लंबोदराय नम:
10 ॐ वक्रतुंडाय नमो नम:
11. ॐ गणाध्यक्षाय नमः

गणेश गायत्री मंत्र : 

यह वास्तव में गायत्री मंत्र में ही गणेश जी के मंत्रों को जोड़कर बना हुआ है। पर इसका प्रयोग किसी बड़े अनुष्ठान के समय ही किया जाता है 

इस मंत्र का प्रयोग बहुत ही साधारण है परन्तु इसे करते समय कुछ खास बातों का ध्यान रखना होता है

एकदंताय विद्महे, वक्रतुण्डाय धीमहि, तन्नो दंती प्रचोदयात्।।
महाकर्णाय विद्महे, वक्रतुण्डाय धीमहि, तन्नो दंती प्रचोदयात्।।
गजाननाय विद्महे, वक्रतुण्डाय धीमहि, तन्नो दंती प्रचोदयात्।।

गणपतिजी का बीज मंत्र 'गं' है। इनसे युक्त मंत्र- 'ॐ गं गणपतये नमः' का जप करने से सभी कामनाओं की पूर्ति होती है। षडाक्षर मंत्र का जप आर्थिक प्रगति व समृद्धि प्रदायक है। किसी के द्वारा नेष्ट के लिए की गई क्रिया को नष्ट करने के लिए, विविध कामनाओं की पूर्ति के लिए उच्छिष्ट गणपति की साधना करना चाहिए।




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें