Breaking

सोमवार, 18 जनवरी 2021

Ram Lakhan Siya Vana Ko Jate Hain Ramayan Song Lyrics

Ram Lakhan Siya Vana Ko Jate Hain Ramayan Song Lyrics

ब्याकुल दशरथ के लगे
रच के पच पर नैन
रच बिहीन बन बन फिरे
राम सिया दिन रैन

विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं

जन जन के प्रिय राम लखन सिया 
वन को जाते हैं

जन जन के प्रिय राम लखन सिया
वन को जाते हैं

हो विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं

एक राजा के रज दुलरे 
वन वन फिरते मारे मारे 

एक राजा के रज दुलरे
वन वन फिरते मारे मारे

होनी हो कर रहे करम गति
डरे नहीं क़ाबू के टारे

सबके कस्ट मिटाने वाले 
कस्ट उठाते हैं

जन जन के प्रिय राम लखन सिया 
वन को जाते हैं

हो विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं

उभय बीच सिया सोहती कैसे
ब्रह्म जीव बीच माया जैसे 
फूलों से चरणों में काँटे
विधिना क्यूँ दुःख दिने ऐसे

पग से बहे लहू की धारा
हरी चरणों से गंगा जैसे 

संकट सहज भाव से सहते
और मुसकते हैं

जन जन के प्रिय राम लखन सिया
वन को जाते हैं

हो विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं

हो विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं

जन जन के प्रिय राम लखन सिया 
वन को जाते हैं

जन जन के प्रिय राम लखन सिया 
वन को जाते हैं
Ram Lakhan Siya Vana Ko Jate Hain - Ramayan Song Lyrics

Ram Lakhan Siya Vana Ko Jate Hain Ramayan Song Lyrics hindi

byaakul dasharath ke lage
 rach ke pach par nain
 rach biheen ban ban phire
 raam siya din rain 

vidhina na tere lekh kisee kee
 samajh na aate hain

 jan jan ke priy raam lakhan siya
 van ko jaate hain

 jan jan ke priy raam lakhan siya
 van ko jaate hain

 ho vidhina na tere lekh kisee kee
 samajh na aate hain

 ek raaja ke raj dulare
 van van phirate maare maare

 ek raaja ke raj dulare
 van van phirate maare maare

 honee ho kar rahe karam gati
 dare nahin qaaboo ke taare

 sabake kast mitaane vaale 
kast uthaate hain

 jan jan ke priy raam lakhan siya
 van ko jaate hain

 ho vidhina na tere lekh kisee kee
 samajh na aate hain

 ubhay beech siya sohatee kaise
 brahm jeev beech maaya jaise
 phoolon se charanon mein kaante
 vidhina kyoon duhkh dine aise

 pag se bahe lahoo kee dhaara
 haree charanon se ganga jaise

 sankat sahaj bhaav se sahate
 aur musakate hain

 jan jan ke priy raam lakhan siya
 van ko jaate hain

 ho vidhina na tere lekh kisee kee
 samajh na aate hain

 ho vidhina na tere lekh kisee kee
 samajh na aate hain

 jan jan ke priy raam lakhan siya
 van ko jaate hain

 jan jan ke priy raam lakhan siya
 van ko jaate hain

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें