Breaking

शुक्रवार, 11 दिसंबर 2020

Rasta Dekhat Sabri Lyrics in Hindi - कब दर्शन देंगे राम

Rasta Dekhat Sabri Lyrics in Hindi

भीलनी परम तपश्विनी शबरी जाको नाम 
गुरु मतंग कह कर गए तोहे मिलेंगे राम

 कब दर्शन देंगे
 कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी 
कब दर्शन देंगे दीन हितकारी
 रस्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी
 रस्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी 

कहीं कोई कांटा प्रभु को नहीं चुभ जाये
 पग तन्मग्चारे चुन चुन पुष्प बिछाए
 मीठे फल चख कर
 मीठे फल चख कर नित्य सजाये थारी
 मीठे फल चख कर नित्य सजाये थारी
 रस्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी
 रस्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी

 श्री राम चरण में प्राण बसे शबरी के
 प्रभु दर्शन दे तो भाग जगे शबरी के
 रघुनाथ प्राणनिधि
 रघुनाथ प्राणनिधि पर जीवन बलिहारी
 रघुनाथ प्राणनिधि पर जीवन बलिहारी
 रस्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी 
रस्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी

 कब दर्शन देंगे
 कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी 
कब दर्शन देंगे राम दीन हितकारी 
रस्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी
 रस्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी


Rasta Dekhat Sabri Lyrics in Hindi

Rasta Dekhat Sabri Lyrics in Hindi

rasta dekhat saabaree liriks hindee mein
bheelanee param tapasvini shabaree jaako naam
guru matang kah kar gae sohe milenge raam

jab darshan hoga
jab darshan karenge raam param hitakaaree
jab darshan karenge deen hitakaaree
rasta dekhat shabaree kee umr gayee
rasta dekhat shabaree kee umr gayee

kaheen koee kaanta haavee nahin hai
pag tanmagchhaare chunen chun pushp bichhae
meethe phal chakh kar
meethe phal chakh kar nity sajaee thaaree
meethe phal chakh kar nity sajaee thaaree
rasta dekhat shabaree kee umr gayee
rasta dekhat shabaree kee umr gayee

shree raam charan mein praan nivaas shabaree ke saath
prabhu darshan de to bhaag jage shabaree ke
raghunaath praananidhi
raghunaath praananidhi par jeevan balihaaree
raghunaath praananidhi par jeevan balihaaree
rasta dekhat shabaree kee umr gayee
rasta dekhat shabaree kee umr gayee

jab darshan hoga
jab darshan karenge raam param hitakaaree
jab darshan karenge raam deen hitakaaree
rasta dekhat shabaree kee umr gayee
rasta dekhat shabaree kee umr gayee


परम तपस्विनी, शबरी जाको नाम, गुरु मतंग कह कर गए, तोहे मिलेंगे राम. श्री राम जी की प्रतीक्षा में तपस्विनी शबरी के मन की व्यथा का वर्णन करता है ये सुमधुर भक्ति गीत। 
स्वर : अनुराधा पौडवाल 
गीत : रवीन्द्र जैन 
संगीत : रवीन्द्र जैन 

Kab darshan denge Ram param hitkari rasta dekhat Sabri ki umar gayi sari 
Singer : Anuradha Paudwal 
Lyrics : Ravindra Jain 
Music : Ravindra Jain

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें